AIIMS प्रशासन के खिलाफ फूटा कर्मचारियों का गुस्सा, DC Office के बाहर किया धरना-प्रदर्शन

Edited By Vijay, Updated: 23 Jul, 2022 06:06 PM

employees protest outside the dc office

बिलासपुर के कोठीपुरा स्थित एम्स से निकाले गए कर्मचारियों ने शनिवार को युवा नेता आशीष ठाकुर की अगुवाई में जिलाधीश बिलासपुर के कार्यालय के बाहर धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान कर्मचारियों ने एम्स प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

बिलासपुर (मुकेश गौतम): बिलासपुर के कोठीपुरा स्थित एम्स से निकाले गए कर्मचारियों ने शनिवार को युवा नेता आशीष ठाकुर की अगुवाई में जिलाधीश बिलासपुर के कार्यालय के बाहर धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान कर्मचारियों ने एम्स प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। इस धरने में 50 के करीब महिलाओं और युवाओं ने भाग लिया। इस मौके पर आशीष ठाकुर ने कहा कि एम्स प्रशासन कर्मचारियों के साथ बहुत बड़ा छलावा कर रहा है। पिछले 2 से 3 वर्षों से कार्य कर रहे कर्मचारियों को बिना नोटिस के बाहर किया जा रहा है। उन्होंने एम्स प्रशासन से पूछा है कि यह कहां तक तर्कसंगत है।

ठेकेदारी प्रथा को बढ़ावा दे रहा एम्स प्रशासन
उन्होंने कहा कि एम्स प्रशासन ठेकेदारी प्रथा को बढ़ावा दे रहा है। कर्मचारियों को मात्र 320 रुपए दिहाड़ी पर काम करवाया जा रहा है। जो ठेकेदार वहां पर स्थानीय लोगों को रख रहे हैं, उनके पास ईपीएफ नम्बर तक नहीं है और जो कर्मचारी रखे जा रहे हैं, उनको उनकी तरफ से आज तक नियुक्ति पत्र तक नहीं दिए गए हैं। कर्मचारियों का आज तक ईपीएफ तक नहीं काटा जा रहा है और न ही उन्हें ईएसआई की सुविधा दी जा रही है। न्यूतम वेतन तक भी कर्मचारियों को नहीं दिया जा रहा है। यहां तक कि रविवार की छुट्टी भी कर्मचारियों को एम्स प्रशासन द्वारा नहीं दी जा रही है। 

कितने हिमाचलियों को दी नौकरी, एम्स प्रशासन जारी करे सूची
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने नियम बनाया है कि 70 फीसदी हिमाचलियों को रोजगार दिया जाएगा परंतु एम्स प्रशासन उसके विपरीत बाहरी प्रदेशों के लोगों को तवज्जो दे रहा है। आशीष ठाकुर ने मांग की है कि एम्स प्रशासन सूची जारी करे कि किस विभाग में कितने हिमाचल के कर्मचारी रखे गए हैं। उन्होंने एम्स प्रशासन को चेताया है कि अगर 1 हफ्ते में कर्मचारियों की नियुक्ति बहाल नहीं हुई और जो न्यूनतम वेतन सरकार द्वारा तय किया गया है वह कर्मचारियों को नहीं दिया गया, साथ में ईएसआई, ईपीएफ की सुविधा कर्मचारियों को नहीं मिली तो जिलाधीश कार्यालय के बाहर एक बहुत बड़ा आंदोलन किया जाएगा, जिसकी पूरी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार, जिला प्रशासन व एम्स प्रशासन की होगी। इस मौके पर जगदीश कुमार, सूरज कुमार, लक्की शर्मा, सतपाल, सुरेंद्र कुमार, पूजा देवी, कांता देवी, अर्चना देवी, सरस्वती देवी, निर्मला, संगीता, कल्पना,सीमा, वंदना,राम प्यारी, गम्भरी, लीला देवी, पूनम, नरपत राम, रामेश्वरी, रजत कुमार, सार्थक, अजय व छाया सहितअन्य कर्मचारी उपस्थित रहे।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!