मांगों को लेकर प्राइवेट बस ऑप्रेटरों ने सरकार खिलाफ खोला मोर्चा, शिमला में थम सकते हैं बसों के पहिए

Edited By Vijay, Updated: 04 Jul, 2022 12:17 AM

wheels of private buses can stop in shimla

राजधानी शिमला में प्राइवेट बसें खड़ी हो सकती हैं। प्राइवेट बस चालक-परिचालक यूनियन ने मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है व चेतावनी दी है कि यदि चालक-परिचालकों की मांगें पूरी नहीं होती तो 11 जुलाई से शिमला में चालक-परिचालक बसें नहीं...

शिमला (राजेश): राजधानी शिमला में प्राइवेट बसें खड़ी हो सकती हैं। प्राइवेट बस चालक-परिचालक यूनियन ने मांगों को लेकर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है व चेतावनी दी है कि यदि चालक-परिचालकों की मांगें पूरी नहीं होती तो 11 जुलाई से शिमला में चालक-परिचालक बसें नहीं चलाएंगे। मांगों को लेकर प्राइवेट बस चालक-परिचालक यूनियन की एक बैठक ओल्ड बस स्टैंड में हुई। बैठक में निर्णय लिया कि विभाग व सरकार को 10 जुलाई का अल्टीमेटम दिया जाएगा इसके बाद यदि मांगें पूरी नहीं होती हैं तो बसें खड़ी कर दी जाएंगी। चालक-परिचालक यूनियन के अध्यक्ष रूप लाल ठाकुर ने कहा कि यदि बसें नहीं चलेंगी तो बस ऑप्रेटरों को भी नुक्सान झेलना पड़ेगा, वहीं चालकों-परिचालकों को भी असर पड़ेगा। उन्होंने कहा कि कोरोना काल से प्राइवेट बस ऑप्रेटर्ज व बसों के चालक परिचालक प्रभावित हुए हैं, लेकिन सरकार सिर्फ कर्मचारियों की बनकर रही गई। इस मौके पर यूनियन के सदस्य अखिल गुप्ता, राम कुमार, यशपाल, चुन्नी लाल, कुशल व राजेंद्र सहित अन्य मौजूद रहे। 

इन मांगों को 7 दिन में पूरा करें  
प्राइवेट बस चालक-परिचालकों ने सरकार व विभाग से मांग की है कि निजी बसों के एचआरटीसी चालक व परिचालकों को अनुभव के आधार पर एचआरटीसी चालक-परिचालक भर्ती में 50 प्रतिशत को कोटा दिया जाए। इसके अतिरिक्त चालक-परिचालकों को मेडिकल सुविधा दी जाए, वहीं प्राइवेट बस चालक-परिचालकों को भी आई कार्ड जारी किए जाएं।

2 किलोमीटर का किराया 5 और 4 किलोमीटर का 10 रुपए किया जाए
सरकार द्वारा न्यूनतम किराया कम करने पर भी बस आप्रेटरों व चालक-परिचालकों में रोष है। प्राइवेट बस आप्रेटरों व चालक-परिचालक यूनियन ने सरकार से मांग की है कि 2 किलोमीटर का किराया 5 रुपए और 4 किलोमीटर का 10 रुपए किया जाए। परिचालकों का कहना है कि मौजूदा समय में बसों में किराया 7 रुपए, 9 रुपए, 11 रुपए, 13 और 15 रुपए है, जिससे परिचालकों के पास खुले पैसे न होने के कारण अकसर यात्रियों से बहस होती रहती है। प्राइवेट बस ऑप्रेटर राजेंद्र ठाकुर ने इस मामले पर कहा कि यह आंदोलन प्रदेश स्तर पर होने जा रहा है, जिसमें आगामी दिनों में बैठकें आयोजित कर रणनीति बनेगी।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here
 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!