आदि कैलाश में फंसे 16 हिमाचली श्रद्धालु

Edited By Kuldeep, Updated: 19 Sep, 2022 07:17 PM

shimla adi kailash devotees stranded

आदि कैलाश में हिमाचले के 16 श्रद्धालुओं के फंसे होने की सूचना है। एस.ईओसी शिमला ने बताया कि कुल 16 हिमाचली फंसे हैं,जिसमें रविवार को निकाले गए व्यक्तियों की संख्या एक है।

शिमला: आदि कैलाश में हिमाचले के 16 श्रद्धालुओं के फंसे होने की सूचना है। एस.ईओसी शिमला ने बताया कि  कुल 16 हिमाचली फंसे हैं,जिसमें रविवार को निकाले गए व्यक्तियों की संख्या एक है। जबकि सोमवार को 3 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया गया है। गुजरात, राजस्थान और हिमाचल प्रदेश के यह तीर्थयात्री आदि कैलाश के पास संपर्क मार्ग के टूटने के कारण फंसे हुए थे। स्थिति की जांच करने पर पता चला है कि फंसे हुए लोगों में 16 हिमाचली हैं। फंसे हुए हिमाचली का विवरण इस प्रकार है। गोविंद  निरमंड कुल्लू , राजकुमारी निरमंड कुल्लू, केर सिंह निरमंड कुल्लू , जीव सिंह, निरमंड कुल्लू , देवी राम रामपुर शिमला, पूनम कुमारी करसोग शिमला, गुंजन देवी करसोग शिमला, मानता सिंह करसोग शिमला, उर्मिला करसोग शिमला, जूरी लाल करसोग शिमला, लता करसोग शिमला, कीर्ति सरूप झाकरी शिमला, पूनम कुमारी झाकरी शिमला, देवी दत्त कुल्लू, बबीता कुल्लू व कला नेगी कुल्लू शामिल हैं।

डीएम सैल ने फंसे हुए लोगों को निकालने और सहायता प्रदान करने के लिए जिला प्रशासन पिथौरागढ़, यूके के साथ संचार स्थापित किया है। इस संबंध में राज्य सरकार उत्तराखंड ने 18 सितम्बर को एक नागरिक हैलीकॉप्टर की मदद से 4 उड़ानें भरीं और 1 हिमाचली (श्री गोविंद के रूप में नामित) के साथ 15 लोगों को बूढ़ी से धारचूला निकाला गया। मौसम की स्थिति के कारण हैलीकॉप्टर संचालन को निलंबित कर दिया गया था।

सोमवार को 4 उड़ानें भरी गई हैं जिसमें 3 हिमाचली श्रीमती राजकुमारी, कीर्ति स्वरूप और बबीता को बूढ़ी से धारचूला लाया गया और मौसम की स्थिति के कारण हैली ऑप्रेशन को निलंबित कर दिया गया है। अब जिला प्रशासन पिथौरागढ़ को बहाल करने की प्रक्रिया में है। क्षतिग्रस्त सड़क को शाम तक ठीक कर दिया गया है ताकि सभी फंसे हुए लोगों को सड़क मार्ग से निकाला जा सके।

Related Story

Trending Topics

India

178/10

18.3

South Africa

227/3

20.0

South Africa win by 49 runs

RR 9.73
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!