संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशन कांगो रिपब्लिक जाएगा चम्बा का जांबाज अयूब शेख

Edited By Vijay, Updated: 17 May, 2022 11:40 PM

brave of chamba will go republic of congo

भारतीय सेना में सेवाएं दे रहे जिला चम्बा के अयूब शेख अब यूएन मिशन में अपनी सेवाएं देंगे। आयूब शेख का चयन यूएन शांति मिशन कांगो के लिए हुआ है। इस दौरान अयूब शेख भारतीय सेना के जाबाजों के साथ कांगों में शांति व्यवस्था के लिए काम करेंगे। अयूब शेख को...

तीसा (सुभानदीन): भारतीय सेना में सेवाएं दे रहे जिला चम्बा के अयूब शेख अब यूएन मिशन में अपनी सेवाएं देंगे। आयूब शेख का चयन यूएन शांति मिशन कांगो के लिए हुआ है। इस दौरान अयूब शेख भारतीय सेना के जाबाजों के साथ कांगों में शांति व्यवस्था के लिए काम करेंगे। अयूब शेख को 2021 में उसकी बहादुरी के लिए सेना मैडल मिलाचुका है। जम्मू-कश्मीर में वर्ष 2019 में सर्च ऑप्रेशन के दौरान अयूब द्वारा आतंकियों को ढेर किया गया था जिस कारण चंबा जिले के जांबाज सैनिक को सेना मैडल से नवाजा गया था। जांबाज सैनिक अयूब शेख चम्बा के चुराह विधानसभा क्षेत्र के केहला निवासी हैं। वह राजपूताना राइफल यूनिट में 11 वर्षों से देश सेवा कर रहे हैं। देश सेवा के साथ-साथ अब अयूब शेख यूएन मिशन के लिए काफी उत्साहित हैं। उनका कहना है कि आज दुनिया भर में भारतीय सेना का डंका है। भारतीय सेना की ओर से उनका चयन यूएन मिशन के लिए होना काफी हर्ष का विषय है। एक वर्ष तक वह डैमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में संयुक्त राष्ट्र मिशन में भारतीय सेना की ओर से अपनी सेवाएं देंगे। उन्होंने इस मिशन के संबंधित अभ्यास पूर्ण कर लिया है। अगले माह भारतीय सेना के करीब 250 जांबाज सैनिकों के साथ अयूब शेख इस मिशन के लिए रवाना होंगे। 

क्या है कांगो मिशन
डैमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में संयुक्त राष्ट्र संगठन का शांति मिशन कहा जाता है। कांगो में संयुक्त राष्ट्र संघ की शांति सेना बहाल है जोकि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद द्वारा दूसरे कांगो युद्ध के बाद शांति प्रक्रिया की निगरानी के लिए तैनात की गई थी। युद्ध और दंगों से बुरी तरह प्रभावित हुए स्थानीय लोगों की मदद के लिए शांति सेना की तैनाती की गई। भारतीय सेना के जवान भी यहां काम करेंगे।

इस मिशन में कई देशों के सैनिक संभालते हैं मोर्चा
दुनिया के अलग-अलग देशों में संयुक्त राष्ट्र मिशन चल रहे हैं। भारत के साथ अन्य कई देशों के सैनिकों की तैनाती एक साथ इन मिशन पर की जाती है। सभी देश संयुक्त राष्ट्र के पीसकीपिंग मिशन के साथ काम करते हैं और जरूरत पड़‍ने पर साथ मिलकर दुश्मन का मुकाबला करते हैं। अब तक संयुक्त राष्ट्र से सैंकड़ों पीसकीपिंग मिशन पूरे कर चुका है। 

बहादुर सैनिक हैं अयूब शेख  : हंसराज
विधानसभा उपाध्यक्ष डॉ. हंसराज ने कहा कि अयूब शेख भारतीय सेना के बहादुर सैनिक हैं। उनकी बहादुरी से चुराह सहित जिला चम्बा का नाम रोशन हुआ है। उनके यूएन मिशन के चयन से मुझे काफी खुशी हुई है। अयूब को इस मिशन के लिए लिए चुराह वासियों की तरफ  से ढेरों शुभकामनाएं। वह अपने इस मिशन में जरूर कामयाब होंगे मुझे पूर्ण विश्वास है।

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

Ireland

221/5

20.0

India

225/7

20.0

India win by 4 runs

RR 11.05
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!