पैतृक गांव नहीं पहुंच पाई शहीद पवन धंगल की पार्थिव देह, खराब मौसम बना बाधा

Edited By Vijay, Updated: 01 Mar, 2023 09:27 PM

deadbody of martyr pawan dhangal not reach ancestral village

जम्मू-कश्मीर के अवंतीपोरा में हुई आतंकी मुठभेड़ में रामपुर बुशहर उपमंडल की ग्राम पंचायत किन्नू के पीथ्वी गांव से संबंध रखने वाले 55वीं आरआर ग्रेनेडियर्स के सिपाही शहीद पवन धंगल की पार्थिव देह खराब मौसम के कारण उनके पैतृक गांव में नहीं पहुंच पाई है।

रामपुर बुशहर (नोगल): जम्मू-कश्मीर के अवंतीपोरा में हुई आतंकी मुठभेड़ में रामपुर बुशहर उपमंडल की ग्राम पंचायत किन्नू के पीथ्वी गांव से संबंध रखने वाले 55वीं आरआर ग्रेनेडियर्स के सिपाही शहीद पवन धंगल की पार्थिव देह खराब मौसम के कारण उनके पैतृक गांव में नहीं पहुंच पाई है। अब वीरवार को शहीद की पार्थिव देह पैतृक गांव में पहुंचेगी। उपमंडलाधिकारी रामपुर सुरेंद्र मोहन ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि शहीद का दाह-संस्कार पूरे राजकीय सम्मान के साथ किया जाएगा। उधर, शहीद की मां भजन देवी और बहन प्रतिभा सहित अन्य परिजनों के आंसू रुकने का नाम नहीं ले रहे हैं तथा पूरे क्षेत्र का माहौल गमगीन हो गया है, ऐसे में परिजन मौसम में सुधार होने का इंतजार कर रहे हैं।

रामपुर के ज्यूरी में शहीद के लिए श्रद्धांजलि सभा का आयोजन
उपमंडल रामपुर के ज्यूरी के मैमोरियल में शहीद पवन धंगल के लिए श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। इस श्रद्धांजलि सभा में स्थानीय पंचायत प्रतिनिधियों के अलावा ज्यूरी स्कूल के छात्र-छात्राओं और 43 आईटीबीपी के जवानों ने श्रद्धांजलि देकर उसकी शहादत को नमन किया। इस दौरान श्रद्धांजलि रैली निकाल कर शहीद की याद में पहाड़ी श्रद्धांजलि गीत गाए गए । इस मौके पर आधे दिन ज्यूरी बाजार को बंद किया गया। इसके अलावा वीरवार को रामपुर में शहीद के सम्मान में रैली व श्रद्धांजलि समारोह का आयोजन किया जाएगा। 

फरवरी माह में किक्रेट प्रतियोगिता में लिया था भाग 
शहीद पवन धंगल ने फरवरी में अवकाश के दौरान आनी में आयोजित सराज क्रिकेट प्रतियोगिता में भाग लिया था। इसके बाद 7 फरवरी को वापस ड्यूटी के लिए गए थे। खेलों के प्रति लगाव होने पर वे ग्रामीण स्तर की क्रिकेट के आयोजन में भाग लेते थे और युवाओं को खेलों के प्रति प्रोत्साहित करते थे। इसके अलावा ग्रामीण स्तर की क्रिकेट प्रतियोगिताओं के लिए धनराशि देकर युवाओं को खेलों के प्रति जागरूक करते थे। बॉबी मेहता ने बताया कि उन्हें तेज गेंदबाजी के साथ बल्लेबाजी का शौक था। क्षेत्र में उसके शहीद होने से युवा काफी मायूस हो गए हैं। वहीं उनकी शहादत की सूचना मिलने पर सोशल मीडिया में लगातार उनकी तस्वीरों को शेयर कर श्रद्धांजलि दी जा रही है। 

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

Afghanistan

134/10

20.0

India

181/8

20.0

India win by 47 runs

RR 6.70
img title
img title

Be on the top of everything happening around the world.

Try Premium Service.

Subscribe Now!