भरमौरी ने साधा निशाना, कहा-टिकट के लिए गद्दी समुदाय को भड़का रहे किशन कपूर

  • भरमौरी ने साधा निशाना, कहा-टिकट के लिए गद्दी समुदाय को भड़का रहे किशन कपूर
You Are HereHimachal Pradesh
Sunday, August 13, 2017-1:06 AM

नूरपुर: नूरपुर के लो.नि.वि. के विश्राम गृह में पत्रकार वार्ता करते हुए वन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी ने कहा कि भाजपा के कुछ गद्दी नेता अपनी राजनीति रोटियां सेंकने के लिए गद्दी समुदाय को बांट कर अपना उल्लू सीधा करने में जुटे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने ऐसा कोई बयान नहीं दिया था, जिससे गद्दी समुदाय का अपमान हो। उनके बयान को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया। धर्मशाला के भाजपा के गद्दी नेताओं किशन कपूर तथा ओंकार नहरिया का नाम लेते हुए उन्होंने कहा कि भाजपा से टिकट लेने के चक्कर में ये दोनों नेता उक्त मुद्दे को भड़का कर गद्दी समुदाय को गुमराह कर रहे हैं।  

जनाधार खो चुके हैं किशन कपूर 
उन्होंने कहा कि किशन कपूर धर्मशाला में अपना जनाधार खो चुके हैं तथा टिकट के लिए जूझ रहे हैं। इस मुद्दे को भड़काकर उनका निशाना भाजपा से टिकट की चाह है। उन्होंने किशन कपूर से प्रश्न किया कि पूर्व मंत्री बताएं कि उन्होंने अपने शासनकाल में गद्दी समुदाय के कल्याण के लिए क्या किया। उन्होंने कहा कि भाजपा के जितने भी गद्दी नेता ऊंचे पदों पर रहे हैं, उन्होंने सिर्फ  अपना विकास किया जबकि गद्दी समुदाय को दरकिनार किया है। उन्होंने कहा कि राजनीति केवल विकास की होती है, मजहब को बांटने की नहीं। 

चुनाव नजदीक आते देख बाहर आ रहे बरसाती मेंढक 
उन्होंने चुटकी लेते हुए कहा कि अब चुनाव नजदीक आते देख बरसाती मेंढक बाहर आ रहे हैं तथा अपने-अपने मजहब का ढिंढोरा पीट कर जनता को गुमराह कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने हर मजहब का विकास व सम्मान किया है। उन्होंने कहा कि जिस शख्स का 55 साल का राजनीतिक करियर है, वो शख्स कभी किसी मजहब का अपमान नहीं सकता। उन्होंने कहा कि गद्दी समुदाय का कांग्रेस शासनकाल में हमेशा विकास हुआ है। मुख्यमंत्री ने मेरे जैसे एक भेड़ पालक को वन मंत्री बना कर पूरे समुदाय का मान बढ़ाया है। उन्होंने कहा कि इसी के साथ-साथ गद्दी कल्याण बोर्ड भी मुख्यमंत्री की देन है।

धर्मशाला में जायज था लाठीचार्ज 
वन मंत्री भरमौरी ने कहा कि मुख्यमंत्री का विरोध कर रहे लोगों पर लाठीचार्ज जायज था। उन्होंने कहा कि जो लोग विरोध कर रहे थे, वे गद्दी समुदाय के नेता नहीं बल्कि हुल्लड़बाज थे और उन्होंने विरोध प्रदर्शन के दौरान थाना प्रभारी की वर्दी फाड़ी थी। ऐसे हुल्लड़बाजों तथा गुंडातत्वों को डंडे से काबू किया जाता है। 

मुख्यमंत्री ने मेरे सामने नहीं दिया ऐसा बयान
उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले ऊना में मुख्यमंत्री द्वारा दिए जिस बयान के बाद भाजपा गद्दी समुदाय को बांटने के लिए होहल्ला कर रही है, उस सभा में वो मौजूद थे लेकिन सभा के बाद अगर कोई ऐसा बयान दिया गया था तो उन्हें नहीं मालूम। जब उनसे पूछा गया कि यदि आपके सामने मुख्यमंत्री गद्दी समुदाय पर ऐसा बयान देते, जिस पर गद्दी नेताओं को आपत्ति हो रही है तो क्या आप विरोध करते, तो इस प्रश्न के उत्तर में वन मंत्री टालमटोल करते हुए बोले कि मुख्यमंत्री ऐसा कोई भी बयान दे ही नहीं सकते।

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !