CM वीरभद्र बोले-साढ़े 4 साल में रोपित किए 1.33 करोड़ औषधीय पौधे

  • CM वीरभद्र बोले-साढ़े 4 साल में रोपित किए 1.33 करोड़ औषधीय पौधे
You Are HereHimachal Pradesh
Saturday, July 15, 2017-12:19 AM

कुल्लू: समाज व सभ्यता के लिए वनों की अहम भूमिका है। यह आवश्यक नहीं कि वन विभाग ही पौधारोपण करे। यह तो देश के प्रत्येक नागरिक का दायित्व बनता है। यह बात मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने शुक्रवार को मौहल में पौधारोपण करके राज्य स्तरीय वन महोत्सव का शुभारंभ करने के बाद कही। उन्होंने कहा कि लोगों को वनों को बचाने के प्रति सचेत करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि एक समय हर साल 90,000 पेड़ काटे जाते थे और इसके अतिरिक्त बिना अनुमति के भी हजारों पेड़ों की बलि चढ़ा दी जाती थी लेकिन हमने फैसला लिया और हरे पेड़ों के कटान पर प्रतिबंध लगा दिया गया। यहां तक स्पष्ट किया गया कि सेब की पेटी के लिए पंजाब या बाहरी राज्यों या विदेश से लाई गई लकड़ी ही इस्तेमाल की जाएगी। मुख्यमंत्री ने कहा कि गत साढ़े 4 साल में 1.33 करोड़ औषधीय पौधे व जड़ी-बूटियां रोपित की गई हैं। इस दौरान उनके साथ वन एवं मत्स्य मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी, भारतीय तिब्बत सीमा पुलिस के जवानों व स्कूल के छात्रों द्वारा पौधारोपण किया गया। 

PunjabKesari

वन माफिया पर लगाई गई है रोक : भरमौरी
इस दौरान ठाकुर सिंह भरमौरी ने कहा कि जितना प्यार मुख्यमंत्री को कुल्लू की जनता से मिल रहा है इससे प्रतीत हो रहा है कि वह 7वीं बार मुख्यमंत्री बनेंगे। मुख्यमंत्री द्वारा वन माफिया पर लगाम लगाई गई है। इस अवसर पर पूर्व मंत्री सत्य प्रकाश ठाकुर, प्रदेश महासचिव सुंदर ठाकुर, नगर परिषद उपाध्यक्ष गोपाल कृष्ण महंत, कुल्लू मंडलाध्यक्ष उत्तम शर्मा, डी.सी. यूनुस, एस.पी. पदम चंद, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सुशील शर्मा व डी.एफ .ओ. नीरज चड्ढा सहित अनेक प्रशासनिक अधिकारी मौजूद रहे। 

PunjabKesari

नेचर पार्क व सर्कल ऑफिस का उद्घाटन
इसके बाद मुख्यमंत्री ने कुल्लू-मनाली राइट बैंक पर बबेली में 4 हैक्टेयर भूमि पर बने नेचर पार्क का उद्घाटन किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि ब्यास नदी के तट पर बना नेचर पार्क पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है। इसमें अनेक प्रकार की गतिविधियां शुरू की गई हैं और धीरे-धीरे इनको और बढ़ाया जाएगा। इस मौके पर उन्होंने ढालपुर मुख्यालय में बने सर्कल ऑफिस का उद्घाटन भी किया। इस दौरान अधीक्षण अभियंता ललित भूषण व लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों द्वारा उनका स्वागत किया गया। उसके बाद मुख्यमंत्री का काफिला सरवरी पहुंचा, जहां उन्होंने आऊटर सराज भवन का उद्घाटन किया। सराज भवन करीब 2 करोड़ रुपए की लागत से बनकर तैयार हुआ। इस दौरान सुंदर ठाकुर, आदित्य विक्रम सिंह, प्रधान मुख्य अरण्यपाल जी.एस. गौरेया व डी.एफ .ओ. नीरज चड्ढा सहित स्थानीय पंचायत प्रतिनिधि भी उपस्थित रहे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!