भारी बर्फबारी में नहीं लौटी बारात, ससुराल में काटनी पड़ी रात, लाहौल-किन्नौर में हिमस्खलन का खतरा

Edited By Kuldeep, Updated: 24 Jan, 2022 07:47 PM

manali shimla snowfall

मनाली-केलांग मार्ग पर मुङ्क्षलग पुल के समीप हिमस्खलन हुआ है। लाहौल में भारी हिमपात के चलते वाहनों की आवाजाही 3 दिन से बंद है।

चम्बा के सैंकड़ों गांवों में अंधेरा
मनाली/शिमला (राजेश):
मनाली-केलांग मार्ग पर मुङ्क्षलग पुल के समीप हिमस्खलन हुआ है। लाहौल में भारी हिमपात के चलते वाहनों की आवाजाही 3 दिन से बंद है। यहां हिमस्खलन की आशंका बढ़ गई है। रक्षा भू-भाग अनुसंधान द्वारा हिमस्खलन की चेतावनी के बाद कुल्लू ,लाहौल-स्पीति व किन्नौर प्रशासन भी सतर्क हो गया है। जिला किन्नौर में भी अधिक हिमपात होने के कारण जगह-जगह ग्लेशियरों व भूस्खलन आदि का खतरा बढ़ गया है। एस.पी. लाहौल स्पीति मानव वर्मा व सहायक आयुक्त किन्नौर मुनीश शर्मा ने हिमस्खलन की आशंका के चलते लोगों से आग्रह किया कि वे हालात को देखकर ही घरों से बाहर निकलें। चम्बा जिले के उपमंडल सलूणी का जिला मुख्यालय से यातायात संपर्क पूरी तरह से कट गया है। चम्बा जिले के सैंकड़ों गांवों में अंधेरा पसरा हुआ है। लोग दीये व मोमबती के सहारे सर्द रातें काटने को विवश हैं। हालांकि बिजली बोर्ड के कर्मचारी लाइनों को ठीक करने में जुटे हुए हैं, लेकिन बर्फबारी के कारण जगह-जगह भूस्खलन होने व विशालकाय पेड़ गिरने से लाइनें क्षतिग्रस्त हो गई हैं। इसके अलावा बिजली के खंभे भी उखड़ गए हैं। ऐसे में विद्युत आपूॢत बहाल होने में अभी समय लगेगा।

हिमाचल के 4 जिलों में बर्फबारी के बाद जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। पर्वतीय भागों में पिछले 2 दिनों से भारी बर्फबारी के कारण जनजीवन सामान्य नहीं हो पाया है। शिमला, लाहौल-स्पीति, किन्नौर और चम्बा जिलों में सड़कें नहीं खुलने से कई इलाकों का जिला मुख्यालयों से संपर्क कटा हुआ है। भारी बर्फबारी की वजह से इन जिलों के कई गांवों में बिजली आपूॢत ठप्प हो गई थी, जो अब तक ठीक नहीं हो पाई है। सोमवार को बर्फबारी का सिलसिला थमने से प्रशासन ने राहत की सांस ली और सड़कों के बहाली कार्य में तेजी आई।

राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण से मिली जानकारी के मुताबिक प्रदेश भर में सोमवार को 3 नैशनल हाईवे व एक स्टेट हाईवे सहित कुल 685 सड़कें अवरुद्ध रहीं। उधर चम्बा-भरमौर एन.एच. पिछले 2 दिन से बंद है। शिमला सहित राज्य के 4 पर्वतीय जिलों में पारा माइनस में पहुंच गया है। पर्यटन स्थलों शिमला और मनाली में सोमवार को न्यूनतम तापमान शून्य डिग्री सैल्सियस रिकॉर्ड किया गया। राजधानी शिमला में बर्फ बारी के बाद ठंड बढ़ गई है। सोमवार को शिमला शहर में भी दिनभर धुंध छाई रही, जिसके कारण खासी दिक्कतों का सामना लोगों को करना पड़ा। मंगलवार को भी राजधानी शिमला सहित जिले में मौसम खराब रहेगा। 9 साल के बाद यह दूसरा मौका है, जब 15 दिनों के भीतर दूसरी बार भारी बर्फ बारी हुई है।

बर्फबारी में नहीं लौट पाई बारात, ससुराल में ही गुजारनी पड़ी रात
चम्बा जिले के सलूणी उपमंडल में शनिवार को दूल्हा पक्ष बारात लेकर तो घर से पालकी व गाडिय़ों के माध्यम से पहुंच गए, लेकिन कई दूल्हे बर्फ के बीच दुल्हन को लेकर पैदल वापस लाए। डनून गांव से गया एक दूल्हा तो ससुराल भांदल के गल्ली गांव से दुल्हन को लेकर वापस अपने घर नहीं पहुंचा सका। उसे बारात सहित ससुराल में ही रात काटनी पड़ी। अगर मौसम साफ न हुआ तो बारात में गए लगभग 20 से 25 लोगों को एक रात और वहीं काटनी पड़ सकती है।

गणतंत्र दिवस पर प्रदेश में साफ  रहेगा मौसम
मौसम विभाग के अनुसार 24 घंटों में मध्यम ऊंचाई व उच्च पर्वतीय इलाकों में कहीं-कहीं बारिश-बर्फबारी होने के आसार हैं, जबकि मैदानी भागों में मौसम साफ  रहेगा। मैदानी जिलों में 25 जनवरी को घना कोहरा छाने को यैलो अलर्ट जारी किया गया है। वहीं गणतंत्र दिवस पर 26 जनवरी को मौसम साफ  रहेगा। 28 जनवरी तक पूरे प्रदेश में मौसम साफ  बना रहेगा।

Related Story

Trending Topics

Indian Premier League
Rajasthan Royals

Royal Challengers Bangalore

Match will be start at 27 May,2022 07:30 PM

img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!