लाहौल के मयाड़ में बादल फटने से तबाही, खेतों में पानी घुसने से फसलें तबाह

Edited By Vijay, Updated: 02 Jul, 2022 08:08 PM

destruction due to cloud burst in mayad of lahaul

लाहौल-स्पीति जिले में बादल फटने की घटनाएं शुरू हो गई हैं। गर्मी बढ़ते ही ग्लेशियर के पिघलने की रफ्तार तेज हो गई है, ऐसे में बादल फटने के चलते नालों में पानी कई गुना अधिक आ रहा है। शुक्रवार को मयाड़ घाटी में बादल फटने से नालों में बाढ़ आ गई .....

केलांग (ब्यूरो): लाहौल-स्पीति जिले में बादल फटने की घटनाएं शुरू हो गई हैं। गर्मी बढ़ते ही ग्लेशियर के पिघलने की रफ्तार तेज हो गई है, ऐसे में बादल फटने के चलते नालों में पानी कई गुना अधिक आ रहा है। शुक्रवार को मयाड़ घाटी में बादल फटने से नालों में बाढ़ आ गई जिससे ग्रामीणों के खेतों में पानी घुस गया, जिससे फसलें तबाह हो गईं, साथ ही सड़क को भी नुक्सान पहुंचा है तथा जगह-जगह सड़क अवरुद्ध हो गई। इस घटना से घाटी के ग्रामीण सहम उठे हैं। पिछले साल भी अगस्त में बादल फटने से ग्रामीणों को भारी नुक्सान उठाना पड़ा था। मयाड़ घाटी में बादल फटने से करपट घोट नाला, शकोली नाला और चांगुट के बिग्गी नाले में भी बाढ़ आ गई, इसमें कोई जानी नुक्सान नहीं हुआ है। लोक निर्माण विभाग के अनुसार घाटी में जगह-जगह भूस्खलन भी हुआ है। पीडब्ल्यूडी विभाग सड़क बहाल करने में जुट गया है। 
PunjabKesari

एसडीएम उदयपुर निशांत तोमर ने कहा कि बादल फटने से मयाड़ घाटी के नालों में बाढ़ आई है। हालात पर नजर रखी जा रही है तथा राजस्व विभाग नुक्सान का जायजा ले रहा है। ग्रामीणों को नालों किनारे न जाने की सलाह भी दी गई है। वहीं शनिवार को शांशा नाले में पानी अधिक बढ़ गया और बाढ़ का रूप ले लिया, जिससे 2 कूहलें क्षतिग्रस्त हुई हैं। जिला परिषद अध्यक्ष अनुराधा राणा ने बताया कि गर्मी बढ़ते ही ग्लेशियर के पिघलने की रफ्तार तेज हो गई है।  

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here
 

Related Story

Trending Topics

West Indies

137/10

26.0

India

225/3

36.0

India win by 119 runs (DLS Method)

RR 5.27
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!