चम्बा पहुंचीं 45 डिफैक्टिव वी.वी. पैट मशीनें, DC ने दिए ये निर्देश

  • चम्बा पहुंचीं 45 डिफैक्टिव वी.वी. पैट मशीनें, DC ने दिए ये निर्देश
You Are HereChamba
Saturday, October 7, 2017-10:25 PM

चम्बा: आगामी विधानसभा चुनावों के लिए इस वर्ष पहली बार प्रयोग होने वाली वी.वी. पैट मशीनों में से 45 में त्रुटियां पाई गईं। इन मशीनों को पुन: ठीक करने के लिए भेजा गया है जोकि चुनावों से पहले जिला में पहुंच जाएंगी। यह जानकारी जिला निर्वाचन अधिकारी एवं डी.सी. चम्बा सुदेश मोख्टा ने यहां पत्रकारों से रू-ब-रू होते हुए दी। उन्होंने बताया कि जिला चम्बा के 5 विस क्षेत्रों के लिए 895 बैलेट यूनिट पहुंचे हैं। इनमें से पहले स्तर की जांच के दौरान 5 बैलेट यूनिट खराब पाई गईं। वहीं यहां पहुंची 752 कंट्रोल यूनिट्स में से 3 में कमी पाई गई जबकि पहली बार प्रयोग में लाई जा रही वी.वी. पैट की चम्बा पहुंची 847 मशीनों में से 45 में खराबी पाईं गईं। इन सभी खराब यूनिटों को निर्वाचन अधिकारी द्वारा वापस दुरुस्तगी के लिए भेजा गया है। उन्होंने बताया कि इन मशीनों की चैकिंग का कार्य पूरा किया जा चुका है। 

राजकीय मिलेनियम पॉलीटैक्नीक संस्थान में रखी गई हैं मशीनें
वी.वी. पैट की जानकारी देते हुए डी.सी. चम्बा ने बताया कि इस मशीन द्वारा जितनी वोटिंग हुई है, उनका मशीन से निकलने वाली पर्चियों से मिलान कर सुनिश्चित किया जा सकता है कि मतदान के दौरान कितनी वोटिंग हुई है। डी.सी. ने बताया कि 847 वी.वी. पैट मशीनें प्राप्त की जा चुकी हंै, जिन्हें सुरक्षित राजकीय मिलेनियम पॉलीटैक्नीक संस्थान में रखा गया है। उन सभी मशीनों की फस्र्ट लेवल चैकिंग इंजीनियरों द्वारा राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के समक्ष भी की जा चुकी है। 

वी.वी. पैट की बताई कार्यप्रणाली
जिला निर्वाचन अधिकारी चम्बा के कार्यालय में आयोजित बैठक के दौरान डी.सी. चम्बा ने विभिन्न पार्टी प्रतिनिधियों, मीडिया और निर्वाचन से संबंधित अन्य कर्मचारियों के साथ वी.वी. पैट मशीनों की कार्यप्रणाली को सांझा किया। इस दौरान उन्होंने बताया कि इस बार हर व्यक्ति अपने द्वारा डाले गए वोट को 7 सैकेंड तक देख सकता है कि उसका वोट उसी को गया है, जिसे उसने डाला है। उन्होंने बताया कि यह वी.वी. पैट पर जानकारी देने के लिए अभियान 9 अक्तूबर से शुरू किया जाएगा। 

दीवारों पर पोस्टर-राइटिंग न करने की दी सलाह
पत्रकारों से रू-ब-रू होते हुए डी.सी. ने विधानसभा चुनावों के दौरान मैदान में उतरने वाले प्रत्याशियों को सलाह दी कि वे सार्वजनिक दीवारों पर पोस्टर न लगाएं और न ही दीवारों पर बिना पूर्व अनुमति के राइटिंग करें। उन्होंने बताया कि ऐसी स्थिति में इनको साफ करने का खर्चा भी उनके निर्वाचन के दौरान हुए खर्च में जोड़ दिया जाएगा। इस अवसर पर अतिरिक्त जिला दंडाधिकारी बलवीर ठाकुर, तहसीलदार निर्वाचन प्रताप सिंह, जिला लोक संपर्क अधिकारी रवि वर्मा, डा. केहर सिंह व नायब तहसीलदार निर्वाचन पवन राणा के अलावा विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रतिनिधि भी मौजूद रहे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!