आग में झुलसे फोरैस्ट गार्ड की पीजीआई में मौत, परिवार पर टूटा दुखों का पहाड़

Edited By Vijay, Updated: 24 May, 2022 09:34 PM

forest guard scorched in fire dies in pgi

जिस परिवार को अपने मुखिया के ड्यूटी से लौटने का इंतजार था वह हमेशा की नींद में लेटा एम्बुलैंस के जरिए घर पहुंचा तो हर दिल पसीज उठा व आंखें नम हो गईं। कुटलैहड़ क्षेत्र के गांव बदौली में ज्यों ही फोरैस्ट गार्ड राजेश कुमार की पार्थिव देह आई तो...

ऊना (सुरेन्द्र): जिस परिवार को अपने मुखिया के ड्यूटी से लौटने का इंतजार था वह हमेशा की नींद में लेटा एम्बुलैंस के जरिए घर पहुंचा तो हर दिल पसीज उठा व आंखें नम हो गईं। कुटलैहड़ क्षेत्र के गांव बदौली में ज्यों ही फोरैस्ट गार्ड राजेश कुमार की पार्थिव देह आई तो चीखोपुकार से माहौल पूरी तरह से गमगीन हो गया। कहां राजेश कुमार का इंतजार घर में हो रहा था कि कब वह ड्यूटी से घर लौटे तो एक साथ परिवार खाना खाए लेकिन जब खबर आई कि कुटलैहड़ क्षेत्र के सैली में बिना किसी उपकरण के आग बुझाते फोरैस्ट गार्ड राजेश कुमार बुरी तरह से झुलस गए हैं तो परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। उम्मीद थी कि पीजीआई में वह स्वस्थ हो जाएंगे, इसके लिए दुआएं भी चल रही थीं और दवाएं भी लेकिन यह उम्मीद सोमवार रात्रि तब टूट गई जब जख्मों की ताव न सहते हुए वनरक्षक राजेश कुमार हमेशा के लिए दुनिया को अलविदा कह गए।
PunjabKesari, Forest Guards Image

परिवार के साथ वन विभाग के कर्मी भी रोए
राजेश कुमार का कसूर इतना था कि वह अपने दायित्व का निर्वहन कर रहे थे। कुछ क्षण के लिए तो मानो काल ही आ गया जब राजेश कुमार सहित अन्य 2 कर्मी आग बुझा रहे थे कि इसी दौरान तेज तूफान ने इस जांबाज वन कर्मी को घेर लिया। इससे पहले कि वह बच पाते उनके कपड़ों में आग लग चुकी थी। घटनास्थल से अस्पताल भी काफी दूर था और जब तक कि उन्हें अस्पताल पहुंचाया गया तब तक वह काफी बदहाल हो चुके थे। राजेश कुमार अपने पीछे पत्नी और 2 बच्चों (एक बेटा व एक बेटी) को छोड़ गए हैं। जब राजेश कुमार की पार्थिव देह घर पहुंची तो परिवार में चीखोपुकार मच गई जोकि पूरे गांव में सुनाई दे रही थी। न केवल उनका परिवार रोया बल्कि गांव सहित सभी वन विभाग के कर्मी भी साथ में रोए। वर्दी में राजेश कुमार के घर के आंगन में बैठे जिला भर के फोरैस्ट गार्ड, रेंजर और अन्य वन कर्मियों की आंखें भी भर आईं। उनका एक साथी हमेशा के लिए बिछड़ गया। न कोई जंगल को आग के हवाले करता न एक अमूल्य जान चली जाती। 
PunjabKesari, Minister Virender Kanwar Image

सरकार करे परिवार की आर्थिक सहायता
कुटलैहड़ ब्लाॅक कांग्रेस अध्यक्ष विवेक विक्कू भी बदौली पहुंचे और उन्होंने श्रद्धांजलि देने के बाद कहा कि सरकार इस परिवार की आर्थिक सहायता करे और इस परिवार को हरसंभव मदद दे। 

डीएफओ ने स्टाफ के साथ प्रवेश द्वार मैहतपुर में दी श्रद्धांजलि
डीएफओ ऊना मृत्युंजय माधव ने अपने पूरे स्टाफ के साथ प्रदेश के प्रवेश द्वार मैहतपुर में शहीद राजेश कुमार को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद वह बदौली पहुंचे। उन्होंने कहा कि विभाग के लिए यह बड़ी क्षति है। इस वन कर्मी ने अपने देश के लिए प्राणों की आहुति दी है। इनका बलिदान कभी भुलाया नहीं जा सकेगा।

सरकार रखेगी शहीद के परिवार के हितों का ध्यान : वीरेंद्र कंवर
कैबिनेट मंत्री वीरेन्द्र कंवर भी शोक प्रकट करने और श्रद्धांजलि देने के लिए गांव बदौली पहुंचे। उन्होंने कहा कि यह सर्वोच्च बलिदान है। सरकार शहीद के परिवार के हितों का पूरा ध्यान रखेगी। वन मंत्री राकेश पठानिया खुद कल ऊना आएंगे और संस्कार में शामिल होंगे। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने भी इस मामले पर दुख प्रकट किया है। परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी प्रदान की जाएगी। 

हिमाचल की खबरें Twitter पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here
अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

Related Story

Trending Topics

Test Innings
England

India

134/5

India are 134 for 5

RR 3.72
img title img title

Everyday news at your fingertips

Try the premium service

Subscribe Now!