Subscribe Now!

शहर में छाया डेंगू का खौफ,महिला की मौत

  • शहर में छाया डेंगू का खौफ,महिला की मौत
You Are HerePunjab
Thursday, September 14, 2017-7:38 AM

कपूरथला (भूषण): गत 2 सप्ताह से डेंगू बुखार से जूझ रहे कपूरथला शहर सहित पूरे जिले में डेंगू महामारी का खौफ इस कदर बढ़ गया है कि बुधवार को डेंगू से पीड़ित एक महिला की जालंधर के एक निजी अस्पताल में मौत हो गई। वहीं स्वास्थ्य विभाग के दावों के बावजूद भी डेंगू मरीजों की लगातार बढ़ रही संख्या के बीच भारी संख्या में लोगों की डेंगू बुखार होने से परेशानियां निरंतर बढ़ती जा रही हैं। जिस कारण जालंधर व लुधियाना के निजी अस्पताल कपूरथला से संबंधित डेंगू पीड़ित मरीजों से भर गए हैं।

वहीं इसके विपरीत स्वास्थ्य विभाग के पास इक्का-दुक्का मरीज पहुंचने कारण जिला स्वास्थ्य विभाग के पास डेंगू पीड़ितों की सही जानकारी होने संबंधी कोई आंकड़ा नहीं है। मिली जानकारी के अनुसार बुधवार को उस समय शहर में दहशत फैल गई जब शहर के केसरी बाग क्षेत्र से संबंधित एक महिला की जालंधर के निजी अस्पताल में डेंगू बुखार के कारण मौत हो गई। बताया जा रहा है कि मौत का शिकार हुई महिला गत कई दिनों से डेंगू बुखार से पीड़ित थी व उसकी हालत बिगडऩे कारण उसे जालंधर के एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया था। वहीं डेंगू से हुई मौत ने इससे निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा किए गए प्रबंधों की हवा निकाल दी, जिसको लेकर लोगों को अब डेंगू को लेकर जहां खौफ है, वहीं उन्हें भविष्य की ङ्क्षचता भी सताने लगी है। 

एक ही परिवार के कई सदस्य हो रहे हैं डेंगू का शिकार
शहर में इस बार डेंगू बुखार का आंकड़ा इस कदर डराने वाला है कि शहर से संबंधित कुछ परिवारों के कई सदस्य डेंगू का शिकार होकर जालंधर व लुधियाना के अस्पतालों में उपचाराधीन हैं। जिस कारण ऐसे परिवारों की स्थिति इस कदर निराशाजनक हो गई है कि उनके लिए जहां महंगा इलाज करवाना असंभव होता जा रहा है, वहीं उनका बजट भी बिगड़ चुका है।

यदि पिछले 3-4 दिनों के आंकड़ों पर भी नजर दौड़ाई जाए तो इस दौरान कई परिवारों में तो पति-पत्नी भी डेंगू से पीड़ित होकर जालंधर के निजी अस्पतालों में उपचार करवा रहे हैं, जो कपूरथला शहर सहित आसपास के क्षेत्रों में लगातार चल रही डेंगू महामारी की भयानक तस्वीर पेश कर रहा है। लोगों में चर्चा है कि डेंगू का जिस कदर शहर में प्रकोप बढ़ रहा है उससे आने वाले दिनों में इस बुखार का आंकड़ा रिकार्ड संख्या को पार कर सकता है। 

क्या कहते हैं डी.सी.
इस संबंध में जब डी.सी. मोहम्मद तैयब से सम्पर्क किया गया तो उन्होंने कहा कि डेंगू को लेकर वह स्वास्थ्य विभाग के साथ लगातार बैठकें कर रहे हैं। इस संबंधी उन्होंने ए.डी.सी. (जनरल) को सिविल अस्पताल कपूरथला भेजा था, पर अब वह खुद सिविल अस्पताल कपूरथला का दौरा करेंगे। 

स्वास्थ्य विभाग के पास नहीं है पुख्ता आंकड़ा 
यदि स्वास्थ्य विभाग द्वारा डेंगू बुखार को लेकर चलाई जा रही मुहिम की ओर नजर दौड़ाई जाए तो स्वास्थ्य विभाग द्वारा पेश किए गए आंकड़े बेहद चौंकाने वाली तस्वीर पेश कर रहे हैं। यदि स्वास्थ्य विभाग अपने तौर पर शहर में सर्वे करवाने के साथ-साथ जालंधर व लुधियाना के निजी अस्पतालों में कपूरथला से संबंधित डेंगू मरीजों की सही संख्या को लेकर सर्वे करवाएं तो यह आंकड़ा स्वास्थ्य विभाग द्वारा बताए जा रहे आंकड़ों से लगभग 10 गुना तक डेंगू पीड़ितों की संख्या बढ़ सकती है, जो आम लोगों में प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं के प्रति लगातार मुंह मोडऩे को लेकर स्पष्ट इशारा कर रहा है।  

कांग्रेसी पार्षद, एक नेता सहित 5 हुए डेंगू का शिकार
मल्होत्रा के अनुसार सिविल अस्पताल व नगर कौंसिल की लापरवाही से कपूरथला शहर में डेंगू का कहर बढ़ता ही जा रहा है। अब सिविल अस्पताल के एमरजैंसी वार्ड में डेंगू से पीड़ित एक कांग्रेसी पार्षद व एक नेता सहित 5 लोग अपना उपचार करवा रहे हैं।

समय रहते अगर नगर कौंसिल कपूरथला द्वारा लगातार शहर के विभिन्न क्षेत्रों में फॉङ्क्षगग करवाई होती तो लगातार बढ़ रहे डेंगू रोग के कहर से लोगों को बचाया जा सकता था।  प्राप्त जानकारी के अनुसार सिविल अस्पताल के एमरजैंसी वार्ड में उपचाराधीन कांग्रेसी पार्षद सतनाम सिंह वालिया (सत्ता) पुत्र तरलोक सिंह वालिया निवासी मोहल्ला सूदां मंदिर कपूरथला ने बताया कि उन्हें 2-3 दिन से तेज बुखार आ रहा है, जिसको लेकर वह जब अस्पताल में अपना उपचार करवाने आए तो किए गए टैस्टों के बाद पता चला कि उनके शरीर में केवल 28,000 सैल ही रह गए हैं।इसी तरह सिविल अस्पताल के एमरजैंसी वार्ड में उपचाराधीन पनसप विभाग से रिटायर्ड अधिकारी हैं व समाज सेवक कुलवंत सिंह सोही पुत्र साधु सिंह सोही निवासी मोहल्ला प्रीतनगर ने बताया कि वह कई दिनों से बुखार से पीड़ित हैं, जिसको लेकर वह कपूरथला के सिविल अस्पताल में उपचार करवाने आए थे, जब टैस्ट किए गए तो उसमें पता चला कि उनके शरीर में सैल काफी कम रह गए हैं।

वहीं सिविल अस्पताल में उपचाराधीन जूली (17) पुत्री रूस्तम खान निवासी मोहल्ला प्रीतनगर ने बताया कि तेज बुखार के चलते वह सिविल अस्पताल में उपचार करवाने आई तो पता चला कि उसके शरीर में सैल कम हो गए हैं। इसी तरह सिविल अस्पताल में 15 वर्षीय पूजा पुत्री राजविन्द्र सिंह निवासी मोहल्ला अशोक विहार कपूरथला के पिता ने बताया कि उनकी बेटी की सेहत एकदम बिगड़ गई, जिसे उपचार हेतु सिविल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। डाक्टरों ने टैस्ट करने के बाद शरीर में सैल कम होने की बात कही है। वहीं सिविल अस्पताल के एमरजैंसी वार्ड में उपचाराधीन स्वीटी शर्मा पुत्र सुखविन्द्र शर्मा निवासी मोहल्ला अरफवाला के परिजन उसे डेंगू का सम्भावित मरीज के बाद उसे सिविल अस्पताल में उपचार हेतु ले आए। 


अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन