Birthday Special: इस कुंड का पानी पीते थे जवाहरलाल नेहरू (Watch Pics)

You Are HereKullu
Monday, November 14, 2016-2:53 PM

कुल्लू: 14 नवंबर को देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू का जन्मदिन होता है। पंडित जी को बच्चे बहुत प्यारे थे इसलिए उनके जन्मदिन को बाल दिवस के रूप में भी मनाया जाता है। बता दें कि प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू को हिमाचल की वादियां बहुत पसंद थी। नेहरू जी ने जब मनाली से 5 किलोमीटर की दूरी पर एक नेचुरल स्प्रिंग का पानी पिया तो वह इसके दीवाने हो गए। कुंड के पानी में हिमालय की जड़ी-बूटियों के औषधीय गुण हैं, इस पानी को पीने के लिए नेहरू मनाली से दिल्ली पीएम हाऊस में मंगवाते थे। अब इसे 'नेहरू कुंड' के नाम से भी जाना जाता है। 


जानिए पूरा मामला
मनाली राज्य में स्थित कुल्लू घाटी का प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है। यहां की ऊंची चोटियां और बर्फ से ढके पहाड़ इस पर्यटन स्थल को खास बनाते हैं। यहां नेहरू कुंड के अलावा 'ब्यास कुंड' भी स्थित है। यह ब्यास नदी का उदगम स्थान माना जाता है।


1958 में पहली बार मनाली पहुंचे थे नेहरू 
साल 1958 में पहली बार प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू देवभूमि हिमाचल के मनाली दौरे पर आए थे। वह मनाली से ब्यास कुंड के पास पहुंचे और उन्होंने ग्लेश्यिरों से निकल रहे इस कुंड का पानी पीया। इस पानी को पीते ही उनको अजीब तरह की ताजगी महसूस हुई। इसके बाद उन्होंने अपने दिल्ली के पी.एम. हाउस में ये पानी मंगाना शुरू कर दिया। 


ऐसे पड़ा 'नेहरू कुंड' का नाम 
कहा जाता है कि नेहरू इस ब्यास कुंड के एक नेचुरल स्प्रिंग से पानी को दिल्ली में भी मंगवाते थे। लोगों के अनुसार इस पानी में हिमालय में पाई जाने वाली दुर्बल जड़ी बूटियों का मिश्रण रहता है। रोहतांग जाने वाले रास्ते में पाए जाने वाले चश्मो और कुंडों का पानी कई बीमारियों से भी मुक्ति दिलवाता है। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !

Recommended For You