कुल्लू से सात समंदर पार पहुंचा नशे का कारोबार!

  • कुल्लू से सात समंदर पार पहुंचा नशे का कारोबार!
You Are HereLatest News
Wednesday, November 22, 2017-1:11 AM

कुल्लू: नशे का कारोबार कुल्लू की शांत वादियों से लेकर सात समंदर पार तक फैला हुआ है। पुलिस महकमे के आंकड़े चौंकाने वाले हैं। चरस, अफीम, कोकीन व स्मैक सहित अन्य नशों की तस्करी में पुलिस विभाग ने इस साल अब तक 126 लोगों को खेप के साथ गिरफ्तार किया है। इनमें 14 विदेशी सैलानी भी शामिल हैं। नशे की खेप के साथ धरे गए लोगों में 14 नेपाली भी सलाखों के पीछे पहुंच गए। ज्यादातर युवाओं की नशे की तस्करी में संंलिप्तता पाई जा रही है। पकड़े गए इन 126 लोगों में 80 फीसदी से ज्यादा युवा हैं और उनकी उम्र 18 से 35 वर्ष के बीच है। कई युवा दूसरे प्रांतों से कुल्लू-मनाली सैर-सपाटा करने आए और यहां नशे के सौदागरों के संपर्क में आकर नशे की खेप लेकर जब वापस लौटने लगे तो पुलिस के हत्थे चढ़ गए। 

मलाणा की चरस की जबरदस्त मांग 
पुलिस महकमे ने नशे के किले पर चढ़ाई करने के लिए कमर कसी हुई है। लगभग हर रोज ही नशे की खेप के साथ आरोपियों की गिरफ्तारियां हो रही हैं। चरस के साथ दबोचे गए कई विदेशी सैलानियों ने पूछताछ में यह भी खुलासा किया है कि वे नशे की खेप लेकर सात समंदर पार निकलने वाले थे। चौंकाने वाली बात यह रही है कि विदेशों में कुल्लू-मनाली खासकर मलाणा की चरस की जबरदस्त मांग है। विदेशों में अन्य कैमिकलयुक्त नशों के मुकाबले चरस को एक बेहतरीन नशा माना जाता है। विदेशों में मिलने वाले नशों के मुकाबले चरस को एक सस्ता नशा होने के साथ-साथ एक जड़ी-बूटी के रूप में भी देखा जाता है। यही वजह है कि इजराइल से इस नशे की तलाश में कई लोग कुल्लू-मनाली पहुंचते हैं। 

पुलिस के जाल में हर रोज फंस रहे तस्कर
नशे का फलता-फूलता कारोबार हालांकि पुलिस के लिए सिरदर्द बना हुआ है लेकिन पुलिस ने भी नशे के सौदागरों के खिलाफ ऐसा जाल बिछाया है कि इसमें हर रोज तस्कर फंस रहे हैं। विदेशी सैलानियों ने चरस को लेकर कई खुलासे करते हुए पुलिस को चौंका दिया है। उसके बाद ही पुलिस ने विदेशी सैलानियों की भी बारीकी से तलाशी की प्रक्रिया शुरू करते हुए एक-एक करके 14 विदेशियों को नशे की खेप के साथ दबोचा और सलाखों के पीछे पहुंचा दिया।

अब तक पकड़ी 95 किलोग्राम चरस 
इस साल पुलिस ने अब तक 95 किलोग्राम चरस की खेप के साथ तस्करों को दबोचा है। 2.625 किलोग्राम अफीम और 1.894 किलोग्राम 820 मिलीग्राम हैरोइन भी बरामद की है। 125.966 किलोग्राम गांजा, 2.792 किलोग्राम चरस ऑयल सॉलिड, 10.296 लीटर चरस ऑयल की भी बरामदगी हुई है। 6 ग्राम कोकीन, 1.041 किलोग्राम एम.डी.एम., 595 एल.एस.डी., 84 ग्राम एल.एस.डी., कोकीन कैप्सूल 50, मैथाडान 2 ग्राम, पॉपी प्लांट्स 2651, चरस प्लांट्स 500 की अलग से बरामदगी हुई है। 

एन.सी.बी. ने भी पकड़ा नशा
कुल्लू पुलिस के अलावा नार्काेटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने भी नशे की बड़ी खेप बरामद की है। कुल्लू से उठी पौने 10 किलोग्राम चरस की खेप को एन.सी.बी. ने चंडीगढ़ में बरामद किया। इसमें कुल्लू के 2 लोगों की गिरफ्तारी हुई। इससे पहले दिल्ली में करीब 6 किलोग्राम चरस पकड़ी गई थी। चम्बा, मंडी व चौपाल सहित अन्य हिस्सों से उठी चरस सहित अन्य नशों की खेप को पकडऩे में भी एन.सी.बी. ने कामयाबी हासिल की है। इन दिनों में भी एन.सी.बी. ने हिमाचल पुलिस के साथ मिलकर नशे के सौदागरों के खिलाफ अभियान छेड़ा हुआ है। बड़े मगरमच्छ निशाने पर हैं।

रातोंरात अमीर बनने की चाह
चरस सहित अन्य नशों की तस्करी में संलिप्तता के पीछे तस्करों की मंशा रातोंरात अमीर बनना रहती है। नशे की खेप को ठिकाने तक पहुंचाने के लिए ही माफिया द्वारा बड़ी रकम का भुगतान किया जाता है। इसी झांसे में आकर कई लोग खासकर युवा इस दलदल में फंसकर अपना जीवन बर्बाद करते हैं। कई ऐसे भी हैं जो माफिया के इशारे पर 1-2 बार नशे की खेप को ठिकाने लगाते हैं और बाद में खुद ही नशे की खरीद-फरोख्त में जुट जाते हैं। इस तरह ये लोग नए तस्कर तैयार करते हैं और नशे का कारोबार फलता-फूलता जाता है। 

क्या कहती हैं एस.पी. कुल्लू
एस.पी. कुल्लू शालिनी अग्निहोत्री ने बताया कि पुलिस ने इस साल अब तक 95 किलोग्राम चरस के अलावा अन्य नशों के साथ 126 तस्करों को गिरफ्तार किया है। इनमें 14 लोग विदेशी हैं। इसके अलावा 14 नेपाली भी नशे की तस्करी करते हुए पकड़े गए हैं। पकड़े गए लोगों में ज्यादातर युवा हैं। युवाओं का इस दलदल में धंसना चिंता का विषय है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!