दुनिया की सबसे लंबी रोहतांग टनल के दोनों छोर मिले, लाहौल घाटी के लिए साबित होगी लाइफलाइन

  • दुनिया की सबसे लंबी रोहतांग टनल के दोनों छोर मिले, लाहौल घाटी के लिए साबित होगी लाइफलाइन
You Are HereHimachal Pradesh
Thursday, October 12, 2017-5:23 PM

कुल्लू: दुनिया की सबसे ऊंचाई पर बन रही सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण रोहतांग सुरंग के दोनों छोर मिल गए हैं। इसकी आधिकारिक पुष्टि रोहतांग सुरंग के चीफ इंजीनियर कर्नल एनएम चंद्रराणा ने की है। उन्होंने कहा कि बुधवार शाम सुरंग में ब्लास्ट करने के बाद इसके दोनों छोर मिल गए लेकिन सुरक्षा की दृष्टि को देखते हुए तीन से पांच दिन अभी और लग सकते हैं। इसके बाद ही छोरों को पूर्ण रूप से खोला जाएगा। उन्होंने कहा कि सुरंग 2019 तक पूर्ण रूप से देश को सर्मपित होगी। 
PunjabKesari
PunjabKesari

12 महीने देश और दुनिया से जुड़ा रहेगा लाहौल का इलाका
इस सुरंग के दोनों छोर मिलने से अब लाहौल का इलाका 12 महीने देश और दुनिया से जुड़ा रहेगा। इस प्रोजेक्ट पर लगभग 4000 हजार करोड़ रुपए खर्च होंगे। यह लगभग 8.8 किलोमीटर टनल लाहौल घाटी के केलांग के लिए लाइफलाइन साबित होगी। इसके अलावा लेह लद्दाख और सियाचीन के लिए सेना को जरूरी सामान पहुंचाने के लिए सर्दियों में जो परेशानी आती थी, वह भी अब कम हो जाएगी। हिमाचल का लाहौल क्षेत्र अक्टूबर और नवंबर में भारी बर्फ गिरने से देश और दुनिया से कट जाता है। हर साल मई या जून में यहां से बर्फ पिघलती है। अक्तूबर में रोहतांग पास सड़क मार्ग को बंद कर दिया जाता है। 
PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!