Subscribe Now!

चंद सिक्कों की खातिर शराब माफिया लोगों की जान से कर रहा खिलवाड़

  • चंद सिक्कों की खातिर शराब माफिया लोगों की जान से कर रहा खिलवाड़
You Are HereHimachal Pradesh
Wednesday, February 14, 2018-11:19 AM

कुल्लू: चंद रुपयों की खातिर कोई किसी की जान की परवाह न करे तो इससे भयावह स्थिति और क्या हो सकती है। कई लोग अवैध शराब में यूरिया और सैल मिला रहे हैं। अवैध शराब की खेप को जल्द तैयार करने के चक्कर में माफिया ऐसा कर रहा है। शराब तैयार करने के लिए बनाए गए विभिन्न चीजों के मिश्रण में यदि थोड़ी सी यूरिया या सैल के भीतर का चिपचिपा पदार्थ मिलाया जाए तो इससे शराब जल्दी तैयार होती है। अवैध रूप से शराब की खेप को जल्दी तैयार करने के चक्कर में कुल्लू में भी शराब माफिया ऐसा ही खेल लोगों के साथ खेल रहा है। आमतौर पर शराब को तैयार करने में कम से कम एक महीने का वक्त लगता है। शराब तैयार करने के लिए रखे मिश्रण में यदि मुट्ठी भर यूरिया या सैल का चिपचिपा पदार्थ मिलाया जाए तो इससे शराब की खेप को एक सप्ताह के भीतर तैयार किया जा सकता है। 


अवैज्ञानिक तरीके से ग्रामीण इलाकों में तैयार की जा रही शराब के दम पर शराब माफिया चांदी कूट रहा है। आसपास के कई ग्रामीण इलाकों से कुल्लू शहर को बड़े पैमाने पर अवैध शराब की सप्लाई हो रही है। सारी, भेखली, पीज और खराहल सहित आसपास के कई ग्रामीण क्षेत्रों से शराब की खेप कुल्लू शहर को आ रही है। हालांकि पुलिस महकमा भी अवैध शराब की खेप के साथ तस्करों को दबोच रहा है इसके बावजूद अवैध शराब की तस्करी रुकने का नाम नहीं ले रही है। चिकित्सकों के मुताबिक ऐसी शराब को अधिक मात्रा में पीया जाए तो इसे पीने वाले की मौत भी हो सकती है। यह एक धीमा जहर है और इससे हार्ट अटैक सहित अन्य कई बीमारियों का खतरा रहता है। यह इस बात पर निर्भर करता है कि कितनी अवैध शराब की खेप को तैयार करने में कितनी मात्रा में यूरिया या सैल के चिपचिपे पदार्थ का इस्तेमाल हुआ है। 


सप्लाई से लोग हैरान
कुल्लू शहर को हो रही अवैध शराब की सप्लाई से कई लोग हैरान हैं। कई ऐसे तस्कर हैं जो हर तीसरे दिन 5 से 10 लीटर अवैध शराब सप्लाई कर रहे हैं। हैरानी इस बात की है कि इतनी जल्दी ये लोग अवैध शराब को आखिर तैयार कैसे कर रहे हैं, ऐसे में लोगों को अंदेशा हुआ तो लोगों ने इस बात की तह तक पहुंचने की भी कोशिश की। अवैध शराब की तस्करी करने वाले कुछ लोगों ने स्वयं भी मुंह खोला तो लोगों के होश उड़ गए। जिन लोगों को बड़ी खेप तस्कर बेचते हैं उन्होंने कई बार उन लोगों को हिदायत भी दी कि आप इस शराब को स्वयं मत पीना। आपके स्वयं के इस्तेमाल के लिए और खेप लाएंगे। जब बात की गहराई तक गए तो पता चला कि खेप को जल्दी तैयार करने के लिए इसमें यूरिया और सैल के चिपचिपे पदार्थ का भी इस्तेमाल किया जा रहा है। 


अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन