वीरभद्र-नड्डा ने किए 638 करोड़ के शिलान्यास, AIIMS पर दिया बड़ा बयान

  • वीरभद्र-नड्डा ने किए 638 करोड़ के शिलान्यास, AIIMS पर दिया बड़ा बयान
You Are HereHimachal Pradesh
Wednesday, September 13, 2017-7:01 PM

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह और केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जगत प्रकाश नड्डा ने बुधवार को प्रदेश के लिए 638.43 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले स्वास्थ्य संस्थानों के ऑनलाइन शिलान्यास किए। नड्डा ने इस अवसर पर कहा कि केंद्र सरकार का एकमात्र विकास का एजैंडा है और हर कार्य को पूरी पारदर्शिता के साथ किया जा रहा है। इसके लिए देश में मैडीकल कॉलेजों में नीट के माध्यम से प्रवेश प्रक्रिया शुरू की गई है, जो एक साफ-सुथरी व्यवस्था है। इससे अब निजी मैडीकल कॉलेजों में भी नीट के माध्यम से चयनित छात्रों को प्रवेश मिलेगा। वहीं उन्होंने कहा कि सभी राज्यों को एम्स देने का निर्णय लिया गया है और हिमाचल प्रदेश में इस बारे में जल्द औपचारिकताओं को पूरा कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि शिलान्यास के बाद प्रदेश में मातृ व शिशु खंड के बिस्तरों की संख्या 550 होगी। एम.सी.एच. के लिए 112 करोड़ रूपए खर्च किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि केंद्र ने प्रदेश के हर जिला में मैडीकल कॉलेज खोलने का प्रयास किया है। 

एक्सफायर दवाओं के इस्तेमाल के लिए बनेगा नया सिस्टम
उन्होंने यह भी कहा कि एक्सफायर दवाओं के समय पर इस्तेमाल के लिए नए सिस्टम को तैयार किया जा रहा है। इसे मैकेनिकल ड्रग्स एंड वैक्सीन डिस्ट्रीब्यूशन के नाम से जाना जाएगा। इसके तहत यदि देश के किसी स्थान पर दवाएं समय रहते प्रयोग नहीं हो पा रही हैं तो उन्हेंं एक्सफायर होने से पहले ऐसी जगह भेजा जाएगा, जहां पर उनकी आवश्यकता होगी। उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार 30 साल के बाद लोगों का फ्री मैडीकल चैकअप करवाएगी ताकि कैंसर सहित अन्य बीमारियों का समय रहते निदान किया जा सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1 साल में 3 मैडीकल कॉलेज शुरू किए गए हैं। हमीरपुर मैडीकल कॉलेज को भी जल्द ही शुरू किया जाएगा।

ऊना में सैटेलाइट सैंटर 
नड्डा ने कहा कि ऊना में जल्द ही 320 करोड़ रूपए से सैटलाइट सैंटर तथा पी.जी.आई. का एक्सटैंडिड विंग खोला जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में केंद्र के सहयोग से 11 प्रकार के टीकरण का कार्यक्रम चल रहा है। घुमंतु जनजातीय व मजदूरों को भी इसमें शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि गरीबों का मुफ्त डायलिसिस करने के लिए प्रधानमंत्री डायलिसिस योजना शुरू की गई है तथा इसके तहत अभी तक 13 हजार मुफ्त डायलिसिस किए जा चुके हैं।

इन संस्थानों की रखीं आधारशिलाएं
मुख्यमंत्री व केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री सहित प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह ठाकुर के एक साथ होटल पीटरहॉफ से पंडित जवाहर लाल नेहरू मैडीकल कॉलेज चम्बा तथा डा. वाई.एस. परमार मैडीकल कॉलेज नाहन की ऑनलाइन आधारशिलाएं रखीं। उन्होंने वाई.एस. परमार मैडीकल कॉलेज नाहन, डा. राजेन्द्र प्रसाद मैडीकल कॉलेज टांडा, नागरिक अस्पताल नूरपुर, क्षेत्रीय अस्पताल ऊना, नागरिक अस्पताल सुन्दरनगर, क्षेत्रीय अस्पताल बिलासपुर व जिला अस्पताल सोलन की मातृत्व एवं शिशु स्वास्थ्य शाखाओं की भी आधारशिलाएं रखीं। इसके अलावा टांडा मैडीकल कॉलेज में जी.एन.एम. प्रशिक्षण स्कूल की आधारशिला रखी तथा लाल बहादुर शास्त्री राजकीय मैडीकल कॉलेज एवं अस्पताल मंडी में टरशयरी कैंसर उपचार केन्द्र तथा बिलासपुर के घुमारवीं के नागरिक अस्पताल के इंडोर खंड की भी आधारशिलाएं रखीं। 

ये नेता रहे मौजूद
इस अवसर पर जिन अलग-अलग जिलों में शिलान्यास किए गए, वहां पर परिवहन मंत्री जी.एस. बाली, वन मंत्री ठाकुर सिंह भरमौरी, आबकारी एवं कराधान मंत्री प्रकाश चौधरी, सांसद अनुराग ठाकुर, सी.पी.एस. राजेश धर्माणी और विधायक डा. राजीव बिंदल सहित अन्य नेता मौजूद थे। स्वाथ्य मंत्री ने इस दौरान स्वास्थ्य विभाग से संबंधित मामलों को केंद्रीय मंत्री के समक्ष रखा। सांसद वीरेंद्र कश्यप एवं विधायक सुरेश भारद्वाज सहित अन्य नेता भी इस अवसर पर मौजूद थे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!