तीमारदार ने डाक्टर के कमरे में की तोड़फोड़, भाजयुमो ने किया धरना-प्रदर्शन

  • तीमारदार ने डाक्टर के कमरे में की तोड़फोड़, भाजयुमो ने किया धरना-प्रदर्शन
You Are HereHimachal Pradesh
Sunday, August 20, 2017-1:31 AM

नेरचौक: अव्यस्थाओं को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले नागरिक अस्पताल रत्ती में शनिवार को भारतीय जनता पार्टी के युवा मोर्चा कार्यकर्ताओं ने धरना-प्रदर्शन किया। धरना-प्रदर्शन को शांत करने के लिए अस्पताल प्रबंधन को पुलिस बल सहित एस.डी.एम. बल्ह को भी मौके पर बुलाना पड़ा। बताया जा रहा है कि गत रात्रि रत्ती अस्पताल में महिला चिकित्सक तैनात थी। रात को लगभग 10 बजे के करीब एक बीमार बच्ची को लेकर कुछ परिजन अस्पताल में पहुंचे। अस्पताल पहुंचने पर वह चिकित्सक के कमरे में जाकर दरवाजा खटखटाने लगे जिस पर चिकित्सक ने उन्हें थोड़ी देर में आने के लिए कहा। इस बात पर तीमारदार तैश में आ गए और कमरे का दरवाजा तोड़ दिया जिस पर चिकित्सक ने पुलिस को सूचित किया। पुलिस के अस्पताल में पहुंचने से पहले तीमारदार वहां से फरार हो गया।
PunjabKesari
भाजयुमो व महिला मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने की नारेबाजी
शनिवार दोपहर बाद मरीज के तीमारदार के साथ भाजयुमो व महिला मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने अस्पताल के बाहर धरना-प्रदर्शन कर नारेबाजी करना शुरू कर दी तथा इस मामले को लेकर खंड चिकित्सा अधिकारी को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि तैनात चिकित्सक के दुव्र्यवहार से रात को परेशानी उठानी पड़ी। ऐसी घटनाएं आए दिन हो रही हैं जिससे जनता को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। 

चिकित्सा अधिकारी ने मौके पर बुलाई पुलिस
गंभीर स्थिति को देखते हुए खंड चिकित्सा अधिकारी पुष्पराज ने मौके पर पुलिस को बुलाया जिसे देखते हुए उपमंडल अधिकारी संजीव धीमान व थाना प्रभारी संजीव सूद अस्पताल पहुंचे। प्रशासन द्वारा दोनों पक्षों को आमने-सामने बिठा कर बात करवाई, जिस पर दोनों पक्ष आपसी समझौते पर राजी हो गए। 

आए दिन होना पड़ रहा परेशान 
बता दें कि रत्ती नागरिक अस्पताल में सुविधाओं के अभाव के चलते आए दिन लोग परेशान हो रहे हैं। इस अस्पताल में रोजाना 200 से 250 के करीब ओ.पी.डी. होती हैं मगर चिकित्सकों व स्टाफ  की कमी के कारण मरीजों को यहां-वहां भटक कर निजी अस्पतालों का रुख करना पड़ रहा है तथा गरीब लोगों को महंगा इलाज करवाने को मजबूर होना पड़ रहा है। इससे उनकी आॢथकी पर भारी असर पड़ रहा है।

10 दिन पहले स्वास्थ्य मंत्री ने किया था दौरा
रत्ती अस्पताल में अव्यवस्थाओं को लेकर स्वास्थ्य मंत्री ने करीब सप्ताह पहले रत्ती अस्पताल का औचक निरीक्षण किया था। जिस पर उन्होंने मौजूद खामियों व चिकित्सकों की कमी को जल्द पूरा करने का आश्वासन दिया था। साथ ही 7 दिन के भीतर 2 चिकित्सकों की नियुक्ति का हवाई फरमान भी किया था जोकि अभी तक पूरा नहीं हो पाया है। इसे लेकर स्थानीय लोगों में भारी आक्रोश है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!