इतने जवानों पर होगा कुल्लू दशहरा उत्सव का जिम्मा

  • इतने जवानों पर होगा कुल्लू दशहरा उत्सव का जिम्मा
You Are HereHimachal Pradesh
Wednesday, September 20, 2017-12:53 AM

कुल्लू: अंतर्राष्ट्रीय दशहरा उत्सव के लिए पुलिस प्रशासन द्वारा कानून व्यवस्था को बनाए रखने के लिए विशेष प्रबंध किए जा रहे हैं। पिछले साल आई.एस.आई.एस. का एजैंट दशहरा उत्सव के दौरान रैकी कर के गया था, यह तो अच्छा हुआ दशहरा उत्सव के दौरान कोई अप्रिय वारदात को उसके द्वारा अंजाम नहीं दिया गया, नहीं तो विश्व भर में मशहूर दशहरा उत्सव में लोग आने से कतराने लगते। पुलिस प्रशासन द्वारा हर साल दशहरा उत्सव के दौरान सैंकड़ों जवान तैनात किए जाते हैं और जगह-जगह नाके लगाए जाते हैं। यातायात व्यवस्था को सही रखने के लिए दर्जनों पुलिस व होमगार्ड के जवान भी तैनात किए जाते हैं लेकिन इस साल पुलिस प्रशासन हर मोर्चे पर पहले से बेहतर प्रबंध करने का प्रयास करने में जुट गया है। इस साल दशहरा उत्सव 30 सितम्बर से शुरू होने जा रहा है। हर मोर्चे पर पुलिस जवान तैनात करने और कानून व्यवस्था कड़ी बनाए रखने के लिए जवानों की कमी आड़े न आने पाए इसलिए पुलिस प्रशासन द्वारा 1600 जवानों की तैनाती की मांग आलाधिकारियों से की गई है जिसमें रिजर्व बटालियन, होमगार्ड व पुलिस जवान तैनात रहेंगे।

11 सैक्टरों में बांटा गया दशहरा आयोजन स्थल
दशहरा आयोजन स्थल को 11 सैक्टरों में बांटा गया है जिसमें मुख्य रूप से अंतर्राष्ट्रीय लाल चंद प्रार्थी कलाकेंद्र, प्रदर्शनी मैदान, कबाड़ी मार्कीट, पशु मैदान व मीना बाजार सहित अन्य शामिल हैं। प्रत्येक सैक्टर में डी.एस.पी. स्तर के अधिकारी की देख-रेख में जवान तैनात रहेंगे। इस साल पुलिस प्रशासन द्वारा 2 एक्शन टीमों का गठन किया गया है। एक टीम कलाकेंद्र के भीतर तैनात रहेगी और दूसरी टीम ढालपुर चौक के समीप तैनात रहेगी और आदेश मिलते ही तुरंत मौके पर पहुंच कर कार्रवाई को अंजाम देगी। दशहरा उत्सव के आरंभ में रथ यात्रा के दौरान और लंका दहन के दिन खासतौर पर पुलिस बल तैनात किए जाएंगे तथा चप्पे-चप्पे पर पुलिस का पहरा रहेगा।

प्लास्टिक के कचरे से बनाएं जाएंगे खूबसूरत उत्पाद
डी.सी. कुल्लू युनूस ने अंतर्राष्ट्रीय दशहरा उत्सव के लिए स्वच्छता की दृष्टि से एक व्यापक योजना तैयार की है। 7 दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय उत्सव के दौरान भी स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाएगा। उत्सव के दौरान हर साल भारी मात्रा में पॉलीथीन का कचरा निकलता है जोकि उत्सव की समाप्ति के बाद सभी के लिए समस्या पैदा करता है और इसी बात को ध्यान में रखते हुए जिला प्रशासन ने एक अनूठी पहल करते हुए पॉलीथीन को नष्ट करने के बजाय इसे दोबारा इस्तेमाल करते हुए कारपेट या साज-सजावट के खूबसूरत उत्पाद तैयार करवाने का निर्णय लिया है। यह कार्य विभिन्न गैर-सरकारी संस्थाएं करेंगी और जिला प्रशासन इन संस्थाओं को प्रोत्साहित करेगा। उन्होंने बताया कि अंतर्राष्ट्रीय दशहरा उत्सव के दौरान स्वच्छता के मानकों पर अच्छा कार्य करने वाले दुकानदारों को नकद पुरस्कार व प्रशस्ति पत्र दिए जाएंगे। 

जाम की समस्या से जूझने को तैयार रहें लोग
अंतर्राष्ट्रीय दशहरा उत्सव में आने वाले लोग इस बार भयंकर जाम की समस्या से जूझने को तैयार रहें। दशहरा उत्सव में ढालपुर से लेकर भुंतर तक वाम तट मार्ग और दाईं तरफ दोनों ओर भयंकर जाम की स्थिति रहेगी। वाम तट मार्ग पर फोरलेन का निर्माण कार्य जारी है। भुंतर में वैली ब्रिज संकरा है। हाईकोर्ट के आदेशों के बावजूद अभी तक वैली ब्रिज के स्थान पर बड़ा व चौड़ा पुल बनाने के लिए धरातल पर काम शुरू नहीं हो सका है। हालांकि इस पुल के लिए पहले ही टैंडर प्रक्रिया निपटाई जा चुकी है। कुल्लू जिलाधीश को पहले ही हाईकोर्ट ने आदेश जारी किए हैं कि भुंतर और मनाली में ब्यास नदी पर पुलों का निर्माण एक साल के भीतर किया जाए।

क्या कहते हैं लोग
कुल्लू शहर के लोगों में का कहना है कि दशहरा उत्सव में हर साल जाम लगता है। ढालपुर में भी अस्पताल मार्ग होते हुए कालेज गेट से ढालपुर चौक तक पहुंचने के लिए एक घंटे से ज्यादा समय लगता है। कलाकेंद्र के पीछे से कालेज गेट के साथ स्थापित होने वाले अस्थायी बस अड्डे तक यदि भुट्ठी चौक से सर्कुलर रोड बनता है तो ही ढालपुर में दशहरे के दौरान ट्रैफिक जाम की स्थिति से निपटा जा सकता है। भुंतर में वैली ब्रिज भी संकरा है और दशहरा उत्सव में लोगों को भयंकर जाम का सामना करना पड़ेगा। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!