उद्योग से निकल रहे ‘जहर’ के खिलाफ ग्रामीण लामबंद, प्रशासन से की यह मांग

  • उद्योग से निकल रहे ‘जहर’ के खिलाफ ग्रामीण लामबंद, प्रशासन से की यह मांग
You Are HereHimachal Pradesh
Tuesday, November 14, 2017-10:32 PM

इंदौरा (आशीष शर्मा): इंदौरा के बाई अट्टारिया औद्योगिक क्षेत्र के उद्योग आई.डी. सूद इस्पात के खिलाफ गांव के लोग लामबंद हो गए हैं। ग्रामीणों ने उद्योग के गेट के बाहर जमकर नारेबाजी की तथा प्रशासन से उद्योग को बंद करने की मांग की है। शेखुपुर पंचायत के पूर्व प्रधान सुधीर पठानिया, बी.डी.सी. मैंबर सुशील कुमार, रमन पठानिया, रवि कुमार, शुभम कौंडल, नरेश कुमार, रिशव, अंकू, सुखदेव मन्हास, संजीव कुमार, सुभाष कुमार व बिट्टू सहित कई लोगों ने बाई अट्टारिया गांव में लगे आई.डी. सूद इस्पात जोकि लोहे की स्कै्रप ढालने का काम करता है, उससे निकलने वाले प्रदूषित धुंए के खिलाफ एकमत होकर उद्योग के गेट के बाहर रोष व्यक्त किया और नारेबाजी कर प्रशासन से उद्योग को तुरंत प्रभाव से बंद करने को कहा है। लोगों का आरोप है कि उद्योग के निकल रहे जहरीले और प्रदूषित धुंए से पूरे गांववासी परेशान हंै। लोगों को सांस लेने में परेशानी हो रही है। वहीं उद्योग से निकलने वाले वेस्ट मटीरियल को उद्योग बिना किसी मंजूरी से साथ बहती छोछ खड्ड में जबरन फंैक रहा है। इससे गांव में भयंकर बीमारी फैलने का खतरा मंडरा रहा है। 
PunjabKesari
...तो गांववासी मजबूरन रोकेंगे रास्ता
लोगों ने बताया कि इसके खिलाफ प्रशासन को शिकायत पत्र भी सौंपा गया है लेकिन कई माह बीत जाने के बावजूद भी अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है। बता दें कि उद्योग की चिमनी जोकि सही ऊंचाई में न होकर उद्योग की छत तक ही सिमित है, जिसके कारण फैक्टरी से निकलने वाला धुंआ पूरे गांव में फैल रहा है। गांववासी इस उद्योग पर कार्रवाई न करने के पीछे प्रशासन से पैसों का मोटा लेन-देन होने की बात कह रहे हैं। लोगों ने कहा कि यदि एक हफ्ते तक इस उद्योग पर प्रशासन ने कार्रवाई नहीं की तो गांववासी रास्ता रोकने पर मजबूर होंगे। इन्दौरा के एस.डी.एम. अंकुश शर्मा ने बताया कि उद्योग से हो रही परेशानी को लेकर उद्योग का जल्द ही दौरा किया जाएगा। यदि उद्योग में अनियमितताएं पाईं गईं तो कड़ी कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। 

इस वजह से आ रही समस्या : मैनेजर
असिस्टैंट एन्वायरमैट इंजीनियर वरुण गुप्ता नुरपुर ने बताया कि लोगों की शिकायत को लेकर प्रदूषण विभाग ने पहले भी उद्योग का दौरा किया था और उद्योग में लगे प्रदूषण नियंत्रक को अपडेट करवाया गया था। लोगों को चिमनी ऊंची न होने की परेशानी को लेकर उद्योग को धुंए वाली चिमनी को उचित ऊंचाई पर बनाने के लिए कहा जाएगा। उद्योग के मैनेजर के.के. तिवारी ने कहा कि चिमनी को उचित ऊंचाई पर न बनाने का कारण उद्योग के ऊपर से गुजर रही हाई वोल्टेज की तारों और डिफैन्स एरिया है। इस कारण यह समस्या पैदा हो रही है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!