पुलिस में ‘साइलैंट किलर’ के नाम से मशहूर राजेश को यू.पी. में मिली बड़ी सफलता, पढ़ें खबर

  • पुलिस में ‘साइलैंट किलर’ के नाम से मशहूर राजेश को यू.पी. में मिली बड़ी सफलता, पढ़ें खबर
You Are HereKullu
Wednesday, October 18, 2017-12:41 AM

कुल्लू: लोग अक्सर पुलिस की कार्यप्रणाली को संदेह की नजर से देखते हैं लेकिन ऐसा भी नहीं है कि पुलिस में सराहनीय कार्य करने वाले युवा पुलिस जवानों की कमी हो। कुल्लू पुलिस में भी एक ऐसे युवा जवान हैं, जिन्हें साइलैंट किलर के नाम से प्रदेश पुलिस पहचानती है। यह जवान है हैड कांस्टेबल राजेश ठाकुर। इस पुलिस जवान की बहादुरी के चर्चे जहां पुलिस विभाग में अक्सर होते हैं, वहीं आम जनता में भी राजेश सराहनीय कार्यों के लिए चर्चित हैं। कुल्लू पुलिस के इस साइलैंट किलर ने जहां बड़े-बड़े मामलों को सुलझाने में कामयाबी पाई है, वहीं एक शातिर अपराधी को यू.पी. के दुर्गम गांव में गिरफ्तार करने में कामयाबी हासिल की तथा अकेले ही उसे मंगलवार को कुल्लू भी पहुंचाया। न्यायालय ने 24 अक्तूबर तक उक्त अपराधी को न्यायिक हिरासत में भेजा है। 

वर्ष 2011 से फरार चल रहा था आरोपी
पुलिस के अनुसार जोगेंद्र सिंह पुत्र चत्तर सिंह गांव ननोता, तहसील रामपुर, जिला सहारनपुर, उत्तर प्रदेश पर 2006 में धारा 341, 323, 325 व 427 आई.पी.सी. के तहत मामला दर्ज हुआ था। तब से लेकर आज तक उक्त अपराधी यहां से फरार था और न्यायालय ने 2011 में उक्त अपराधी को भगौड़ा घोषित किया था। उसके बाद कई बार इस अपराधी की तलाश में पुलिस की टीमें उत्तर प्रदेश गईं और बैरंग वापस लौट आईं। इस बार कुल्लू पुलिस ने साइलैंट किलर राजेश को अकेले ही उक्त अपराधी की तलाश में भेजा और राजेश ने अपनी बहादुरी के साथ जहां अपराधी तक पहुंचने में कामयाबी हासिल की, वहीं गिरफ्तार कर कुल्लू लाने में भी कामयाब हुए। 

इन मामलों में भी किया था पर्दाफाश 
राजेश इससे पहले भी कई मामलों में अपनी बहादुरी व चतुराई के लिए प्रसिद्ध रहे हैं। कुल्लू में हाईप्रोफाइल रघुनाथ मूॢत चोरी मामले में राजेश की टीम ही नेपाल गई थी और अपराधी से सब कुछ उगलवाने में कामयाब रहने के बाद गूगल मैप के आधार पर रघुनाथ की चोरी का पर्दाफाश करने में बड़ी कामयाबी पुलिस को दिलवाई थी। जिससे कुल्लू पुलिस ने भी वाहवाही लूटी थी और हिमाचल प्रदेश के आराध्य देव भगवान रघुनाथ की मूर्ति यां मिलने से आस्था भी बच गई थी।

आविद खान को पकडऩे में भी निभाई भूमिका
भुंतर में 50 लाख रुपए के चोरी मामले के अलावा आई.एस.आई.एस. एजैंट आविद खान को पकडऩे में भी राजेश के दिमाग व बहादुरी ने काम किया था और आज देवभूमि को आई.एस.आई.एस. एजैंट से मुक्ति दिलाकर जनता को सुरक्षा प्रदान की है। इसी तरह राजेश ठाकुर ने कई बड़े मामलों का पर्दाफाश किया है और कई भगौड़े अपराधियों को पकडऩे में भी कामयाबी हासिल की है। आज राजेश ठाकुर की बहादुरी के हर जगह चर्चे हो रहे हैं और पुलिस विभाग को भी राजेश पर गर्व है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!