हिमाचल में चुनाव को नैशनल फ्रीडम पार्टी तैयार, युवाओं को मिलेगा मौका

  • हिमाचल में चुनाव को नैशनल फ्रीडम पार्टी तैयार, युवाओं को मिलेगा मौका
You Are HereHimachal Pradesh
Saturday, September 9, 2017-6:14 PM

बिलासपुर: नैशनल फ्रीडम पार्टी हिमाचल प्रदेश की सभी 68 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी तथा प्रदेश के लोगों को तीसरा विकल्प मुहैया करवाएगी। यह बात पूर्व मंत्री महेंद्रनाथ सोफत ने परिधि गृह बिलासपुर में आयोजित पत्रकार वार्ता में कही। उन्होंने कहा कि हालांकि प्रदेश में तीसरा विकल्प मुहैया करवाने के अब तक के सारे प्रयास पूरी तरह सफल नहीं हुए हैं तथा हिमाचल विकास पार्टी और हिमाचल लोक हित पार्टी के नेताओं की स्वार्थसिद्धी के कारण ही यह सब हुआ है लेकिन नैशनल फ्रीडम पार्टी प्रदेश में तीसरा विकल्प मुहैया करवाने में कामयाब रहेगी। उन्होंने बताया कि इस पार्टी द्वारा 45 वर्ष की आयु तक के लोगों को ही उम्मीदवार बनाया जाएगा ताकि पेशेवर राजनीतिज्ञों को बाहर कर भ्रष्टाचार पर रोक लग सके। उन्होंने कहा कि प्रदेश में मौजूदा समय भ्रष्टाचार का बोलबाला है तथा कानून व्यवस्था बुरी तरह से चरमराकर रह गई है।

कभी भी कैंसिल हो सकती है मुख्यमंत्री की बेल 
मुख्यमंत्री बेल पर हैं और वे सातवीं बार मुख्यमंत्री बनने का सपना देख रहे हैं। मुख्यमंत्री की बेल कभी भी कैंसिल हो सकती है। इस कारण देवभूमि शर्मसार हो सकती है। उन्होंने कहा कि देश में कारपोरेट की सरकार चल रही है। यह सरकार कारपोरेट द्वारा कारपोरेट के लिए बनाई गई सरकार है। उन्होंने दावा किया कि आप के 70 प्रतिशत कार्यकर्ता और पदाधिकारी इस पार्टी में आ चुके हैं। उन्होंने कहा कि सत्ता में आने या फिर सत्ता में भागीदार बनने पर पी.के.टी.सी.एल. टावर लाइन मामले की जांच सी.बी.आई. से करवाएंगे, वहीं इस पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अमलान विश्वास ने कहा कि प्रदेश की कार्यकारिणी का एक सप्ताह के भीतर गठन कर दिया जाएगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हारे हुए लोगों को बनाया मंत्री 
उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हारे हुए लोगों को मंत्री बनाया है तथा देश की राजधानियां 2 बनाकर रख दी हैं। दिल्ली के बाद नागपुर केंद्र की भाजपा सरकार की राजधानी है। दिल्ली में प्रस्ताव पारित कर पहले इसे नागपुर भेजा जाता है और वहां से पास होने के बाद ही इस पर आगामी कार्रवाई होती है। उन्होंने कहा कि इस पार्टी का मुख्य एजैंडा वर्ष 2019 में देश में एक सशक्त विपक्ष पैदा करना है ताकि भाजपा की जनविरोधी और तानाशाही पर अंकुश लगाया जा सके। 

देश में विपक्ष नाम की कोई चीज नहीं
मौजूदा समय देश में विपक्ष नाम की कोई चीज नहीं रह गई है। केंद्र की भाजपा सरकार के शासनकाल में अब तक 17 राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए हैं जिनमें से भाजपा को केवल 4 राज्यों में ही बहुमत मिला है जबकि अन्य राज्यों में भाजपा ने तोड़-मरोड़कर अपनी सरकारें बनाई हैं। इस अवसर पर पार्टी के संगठन सचिव मौंटी गिल और धर्म चंद गुप्ता भी मौजूद रहे। 

विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क  रजिस्टर  करें !