Watch Video: मणिपुर बम विस्फोट में शहीद हिमाचल का वीर सपूत, 7 साल के बेटे को बिलखता छोड़ गया

You Are HereHimachal Pradesh
Tuesday, November 14, 2017-2:47 PM

मंडी (नीरज): देश की सुरक्षा में तैनात हिमाचल का लाल वतन पर कुर्बान हो गया है। मणिपुर के चंदेल जिले में सोमवार सुबह हुए एक आईईडी ब्लास्ट में मंडी के पंडोह निवासी राइफलमैन इंद्र सिंह (35) समेत दो जवान शहीद हो गए। इंद्र सिंह असम राईफल में वर्ष 2003 से मणीपुर में ही तैनात था। 6 जवान घायल हुए हैं। पुलिस के मुताबिक राजधानी इंफाल से 64 किलोमीटर दूर चंदेल शहर के महामनी गांव में सुबह के समय जवान गश्त कर रहे थे तो उनके शिविर के पास एक धमाका हो गया। 
PunjabKesari

7 साल के बेटे को छोड़ गया बिलखता
सुबह करीब 7 बजे घटी इस घटना की जानकारी परिजनों को 9 बजे दे दी गई। शहीद का शव पूरी तरह से क्षत-विक्षत हो गया है। घर पर शहादत की सूचना मिलते ही पूरा परिवार गम में डूब गया है। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है। शहीद के पिता की पहले ही मौत हो चुकी है। उसका एक भाई और दो बहनें हैं। शहीद अपने पीछे 29 वर्षीय पत्नी इंदु, 7 वर्षीय पुत्र उदय सिंह और बूढ़ी मां को छोड़ गया है। बताया जा रहा है कि शहीद का पार्थिव शरीर बुधवार तक पैतृक गांव पहुंच सकता है। परिजनों को अपने वीर सपूत की शहादत पर तो नाज है लेकिन नकसलियों द्वारा आए दिन किए जा रहे ऐसे कारयाना हमलों को लेकर भारी आक्रोश भी है। 
PunjabKesari
PunjabKesari

परिजनों ने सरकार से पार्थिव शरीर को जल्द घर पहुंचाने की गुहार लगाई
शहीद के परिजनों ने सरकार ने नक्सलवाद पर ठोस कार्रवाई की मांग की है ताकि आए दिन शहीद हो रहे देश के वीर सपूतों को ऐसे कायराना हमलों से बचाया जा सके। शहीद इंद्र सिंह जून महीने में छुट्टियां काटने घर आया था और जुलाई महीने में वापिस डयूटी पर लौटा था। बीती रात को ही शहीद ने अपने परिवार वालों से फोन पर बात की थी और अपनी खैरियत के बारे में बताया था, लेकिन सुबह तक परिजनों को कुछ और सूचना प्राप्त हुई। परिजनों ने सरकार से पार्थिव शरीर को जल्द से जल्द घर पहुंचाने की गुहार लगाई है।
PunjabKesari

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!