कोयले की अंगीठी जलाना पड़ा महंगा, नवजात की गई जान-2 गंभीर

  • कोयले की अंगीठी जलाना पड़ा महंगा, नवजात की गई जान-2 गंभीर
You Are HereHimachal Pradesh
Wednesday, December 13, 2017-5:26 PM

बिलासपुर (मुकेश): सर्द मौसम में अगर आप ऐसी अनहोनी कर रहे हैं तो जरा बचके रहिए। घुमारवीं उपमंड़ल के अतंर्गत पड़ने वाली पंचायत कुठेड़ा के गांव मसौर मे एक परिवार को ठंड से बचने के लिए कोयले की अंगीठी लगाना महंगा पड़ा गया। अंगीठी से निकलने वाले धुएं से परिवार के तीन लोगों की हालत दयनीय हो गई, जिसमें एक मासूम बच्चे की मौत हो गई। यह मासूम सिर्फ 25 दिन का था। घटना मंगलवार रात की है। 
PunjabKesari

जानकारी के मुताबिक घटना का पता सुबह उस समय चला जब सुबह रिश्ते में पीड़ित महिला की माता जो अलग कमरे में रहती थी, वह उन्हें चाय देने के लिए गई। जब वह उनके कमरे के बाहर पहुंची तो उसने देखा कि कमरा अंदर से बंद था। किसी भी तरह की कोई भी आवाज नहीं आ रही थी। उसने तुरंत आनन-फानन में अन्य परिवार के  सदस्यों को बताया। उन्होंने दरवाजे को तोड़कर अंदर देखा तो सभी बेहोश पड़े थे। 


परिवार वालों ने 108 एबुलैंस की सहायता से उन्हें घुमारवीं अस्पताल पहुंचाया। जहां डॉक्टरों ने बच्चे को मृत घोषित कर दिया है, वहीं मां-बाप की हालत गंभीर बनी हुई है। यह पिछले लगभग एक साल से मसौर गांव में दिहाड़ी मजदूरी कर अपनी जीवन जी रहे थे। घटना की जानकारी देते हुए बच्चे की नानी रूकसाना ने बताया कि मेरी बेटी शवाना (21), उसका पति गुलाम मुहमंद (25) साल और उनका बच्चा जो मात्र  25 दिन का हुआ है, हर रोज की तरह अपने कमरे मे सोने के लिए चले गए। 


बारिश व ठंड ज्यादा होने के कारण कमरे में कोयले की अंगीठी जलाकर रखी थी। सुबह जब हर रोज की तरह चाय देने के लिए गई तो पाया कि कमरा बंद है तो तत्काल इसकी जानकारी अपने पति को दी। पीड़ित गुलाम मुहम्मद व उसकी पत्नी गांव कल्याणपुर डा.केसरपुर तहसील सरोली जिला बरेली के हैं। यह जानकारी शवाना की मां व बच्चे की नानी रूकसाना ने दी। 
 


अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन