GST के विरोध के चलते यहां 10 हजार ट्रकों के थमे पहिए, उद्योग जगत पर पड़ेगा असर

  • GST के विरोध के चलते यहां 10 हजार ट्रकों के थमे पहिए, उद्योग जगत पर पड़ेगा असर
You Are HereSolan
Monday, October 9, 2017-11:24 AM

नालागढ़: गुड्स एवं सर्विस टैक्स (जीएसटी) कानून से जहां व्यापारी परेशानी झेल रहे हैं, वहीं ट्रक ड्राइवर से लेकर आम जनता को भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। इसी विरोध में हिमाचल की औद्योगिक राजधानी सोलन में 9 अक्‍तूबर को 10 हजार से अधिक ट्रकों के पहिए थम गए हैं। बताया जाता है कि यहां उत्तर भारत की सबसे बड़ी यूनियनों में शुमार बीबीएन की दी ट्रक आपरेटर यूनियन ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस (एआईएमटीसी) के आह्वान पर जीएसी के विरोध में हड़ताल का ऐलान किया है। बरोटीवाला और नालागढ़ (बीबीएन) इंडस्ट्रियल एरिया में सोमवार को कोई भी ट्रक माल नहीं उठाएगा। 


बीबीएन की यूनियन में 10 हजार ट्रक शामिल
बीबीएन की ट्रक यूनियन में 10 हजार से अधिक वाहन शामिल हैं। यह देश के विभिन्न हिस्सों में माल लेकर जाते हैं। खास बात यह है कि हर रोज करीब 3000 ट्रक माल लेकर यहां से रवाना होते हैं। लेकिन अब हड़ताल के चलते कोई भी माल नहीं उठाएगा। ट्रक यूनियन के अध्यक्ष चौधरी विद्यारतन ने कहा कि ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने जीएसटी व डीजल के दामों में वृद्धि को लेकर चक्का जाम करने का फैसला लिया है। 


ट्रकों की इस हड़ताल से उद्योग जगत पर पड़ेगा असर
ट्रकों की इस हड़ताल से अब उद्योग जगत पर खासा असर पड़ेग। त्यौहारी सीजन में उद्योगों के पास माल तैयार करने के आर्डर हैं। ऐसे में उन्हें कच्चे माल को लाने व तैयार माल भेजने में खासी दिक्कत मुश्किलें झेलनी पड़ेगी।  


 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!