Subscribe Now!

दर्दनाक हादसा : जानिए कैसे दिया मौलवी ने मानवता का परिचय

  • दर्दनाक हादसा : जानिए कैसे दिया मौलवी ने मानवता का परिचय
You Are HereHimachal Pradesh
Monday, August 21, 2017-11:53 PM

घुमारवीं : स्थानीय लोक निर्माण विभाग के रैस्ट हाऊस के पास 2 दिन पहले हुए हादसे में बाइक सवार की मौत के बाद क्षत-विक्षत शव पर जमा हुई भीड़ फोटो खींचने में व्यस्त रही लेकिन स्थानीय मस्जिद के मौलवी ने मानवता का परिचय दिया। शव के कुछ हिस्सों से आंतें व दूसरों अंगों के बाहर सड़क पर बिखर आने के कारण मौके पर मौजूद भीड़ सिर्फ  तमाशा देखती रही लेकिन मौलवी ने शव के बिखरे पड़े हिस्सों को अपने हाथ से उठाकर इक_ा किया। इसी बीच मौके पर पहुंचे पुलिस कर्मियों ने भी मौलवी के साथ मिलकर शव के हिस्सों को बाद में जीप में डालकर अस्पताल पहुंचाया। ए.एस.आई. चमन लाल ने बताया कि मौलवी ने सचमुच इंसानियत के प्रति अपने फर्ज को एक नजीर के रूप में पेश किया अन्यथा अधिकतर लोग शव की हालत देखकर फोटो खींचकर अपने रास्ते पर चले जा रहे थे। चमन ने बताया कि विभाग किसी मौके पर मौलवी को इस तरह की इंसानी मदद के लिए सम्मानित करेगा। 

इंसानियत छोड़ शव का खींच रहे थे फोटो 
ए.एस.आई. चमन ठाकुर ने बताया कि 2 दिन पहले लोक निर्माण विभाग रैस्ट हाऊस के थोड़ा आगे एक संकरी जगह पर कोटलू ब्राह्मणा के रहने वाले आकाश उर्फ विशाल कुमार की मौत ट्रक से टक्कर के बाद टायर के नीचे कुचलने के बाद हो गई थी। हादसे के तुरंत बाद पुलिस भी मौके पर पहुंच गई थी लेकिन मौके की तमाम जरूरी वैधानिक कार्रवाई में पुलिस जुट गई। इसके पूरा करने के दौरान पुलिस ने हालांकि हलके वाहनों के लिए रास्ता खुलवा दिया था लेकिन इस हादसे को देखकर जाने वाले अधिकतर लोग अपने मोबाइल में सिर्फ  लाश व बाइक का फोटो जमा करके आगे निकल रहे थे। यहां तक स्थानीय इलाके के आसपास के क्षेत्रों से मौके पर पहुंचे लोग भी तमाशा ही देखते रहे और किसी ने हिम्मत नहीं की कि बिखरे पड़े उसके अंगों को जमा करके लाश को अस्पताल तक पहुंचाने में पुलिस की मदद करें। ठाकुर ने बताया कि स्थानीय मस्जिद के मौलवी ने मौके पर आकर सीधे अपने हाथों से बिखरे पड़े अंगों को एक-एक करके जमा किया और लाश को हैड कांस्टेबल प्रकाश ठाकुर व कांस्टेबल राकेश कुमार के साथ मिलकर एक चादर में लपेट कर इसे जीप में अस्पताल पहुंचाया। ठाकुर ने बताया कि मौलवी के इस तरह के इंसानियत के प्रति उदारतापूर्ण व्यवहार पर सभी प्रभावित हुए। मौलवी ने पुलिस को बताया कि हर धर्म सबसे पहले इंसानियत ही सिखाता है। 


अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन