धूमल ने साधा निशाना, कहा-पथयात्रा नहीं पश्चाताप यात्रा करे कांग्रेस

  • धूमल ने साधा निशाना, कहा-पथयात्रा नहीं पश्चाताप यात्रा करे कांग्रेस
You Are HereHimachal Pradesh
Sunday, July 16, 2017-5:46 PM

शिमला: राज्य की वर्तमान कांग्रेस सरकार ने हिमाचल को भ्रष्टाचार, अपराध व माफियाराज के गर्त में धकेल दिया है। नेता प्रतिपक्ष प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने यह आरोप लगाया है। उन्होंने प्रदेशभर में बढ़ते अपराधों के प्रति आक्रोश व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य में कांग्रेस सरकार द्वारा अपराधियों व गैर-सामाजिक तत्वों को संरक्षण देने की नीति से गंभीर अपराधों में पूर्व की तुलना में 3 गुना वृद्धि हुई है। उन्होंने कहा कि ऐसे में अपराधियों से निपटने में असफल रही कांग्रेस को पथयात्रा नहीं बल्कि पश्चाताप यात्रा करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि अपराधों के प्रति मुख्यमंत्री द्वारा कान और आंख बंद कर देने से सच्चाई नहीं बदलेगी। गुडिय़ा मामले में भी शुरूआती दौर में लीपापोती की कोशिश न हुई होती तो सरकार को आज बदनामी नहीं झेलनी पड़ती और न ही मुख्यमंत्री को दोषारोपण की राजनीति करनी पड़ती।

मुख्यमंत्री के बयान पर व्यक्त की कड़ी प्रतिक्रिया
उन्होंने मुख्यमंत्री के उस बयान पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है, जिसमें उन्होंने कहा था कि इस तरह के मामले विपक्ष को नहीं उठाने चाहिए। उन्होंने कहा कि विपक्ष का कत्र्तव्य है कि प्रदेश में हो रहे किसी भी गलत कार्य को वह जनता के समक्ष लाए और गुडिय़ा मामले में मीडिया, सोशल मीडिया, साधारण जनता और विपक्ष ने जागरूकता नहीं दिखाई होती तो इस मामले का हश्र भी वही होता जो प्रदेशभर में हुए अन्य मामलों का हुआ है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल में दोषियों को कानून के कटघरे में खड़ा करने की बजाय उन्हें संरक्षण प्रदान किया जाता रहा है। भाजपा का यह मानना है कि गुडिय़ा के परिजनों को न्याय मिलना चाहिए और उनके द्वारा प्रकट की गई किसी भी शंका का निष्पक्ष ढंग से निराकरण होना चाहिए। 

जनता को सरकार और पुलिस पर जरा भी विश्वास नहीं 
उन्होंने कहा कि आज जनता को प्रदेश सरकार और पुलिस प्रशासन पर जरा भी विश्वास नहीं रहा है। इसका मुख्य कारण सरकार के साढ़े 4 वर्षों की कारगुजारियां व कृत्य रहे हैं। उन्होंने पूछा है कि क्या यह सच नहीं है कि कांग्रेस सरकार के इस कार्यकाल के दौरान इतनी बड़ी आपराधिक वारदात के पश्चात जांच पूरी होने से पूर्व ही मुख्यमंत्री आरोपियों को क्लीन चिट देते रहे हैं? आपराधिक वारदात के पश्चात दोषियों को सजा दिलवाने की बजाय उन्हें बचाने के लिए पुलिस प्रशासन ज्यादा सक्रिय रहा है? होशियार हत्याकांड, कुल्लू में मासूम के साथ दुराचार व धर्मशाला का कथित रेप कांड ऐसे मामले हैं, जिनमें पुलिस अभी तक दोषियों को नहीं पकड़ पाई है। उन्होंने कहा है कि दुर्भाग्यपूर्ण है कि कांग्रेस के इस कार्यकाल में देवभूमि हिमाचल अपराध भूमि में तबदील हो गया है।

कांग्रेसी पार्टी भी लगा चुकी है प्रश्नचिन्ह
उन्होंने कहा कि गुडिय़ा मामले में सरकार की नाकामी को लेकर केवल साधारण जनता और विपक्ष ही सरकार को कटघरे में खड़ा नहीं कर रहे हैं बल्कि उन्हीं की पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष भी यह स्वीकार कर चुके हैं कि सरकार के ढुलमुल रवैये और पूर्व मुख्यमंत्री द्वारा तथाकथित आरोपियों के फोटो फेसबुक में डालने के पश्चात से लोगों में आक्रोश बढ़ा है। उन्होंने पूछा है कि क्या यह मुख्यमंत्री कार्यालय पर प्रश्नचिन्ह नहीं है? उन्होंने कहा कि आखिरकार किसने मुख्यमंत्री कार्यालय को यह इजाजत दी कि वह बिना जांच के ही इस तरह के फोटो अपलोड करे।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!