अस्पताल में गर्भवती महिला की मौत पर हंगामा, परिजनों ने महिला चिकित्सक पर जड़े ये आरोप

  • अस्पताल में गर्भवती महिला की मौत पर हंगामा, परिजनों ने महिला चिकित्सक पर जड़े ये आरोप
You Are HereHimachal Pradesh
Wednesday, August 23, 2017-6:42 PM

सोलन: क्षेत्रीय अस्पताल सोलन में चिकित्सकों की लापरवाही का एक और मामला सामने आया है। बुधवार को यहां एक गर्भवती महिला की मौत हो गई। इसके लिए परिजनों ने अस्पताल प्रशासन को दोषी ठहराया है। यह महिला यहां खांसी, बुखार व घबराहट की शिकायत लेकर अपने पति के साथ आई थी। इससे पहले भी कई बार अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही बरतने के आरोप लग चुके हैं। ग्रामीणों ने अस्पताल प्रशासन पर लापरवाही बरतने के आरोप लगाए हैं। उक्त महिला के पति जयवंत राणा ने बताया कि महिला चिकित्सक की लापरवाही के कारण ही उसकी पत्नी की मौत हुई है। उन्होंने क्षेत्रीय अस्पताल के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डा. महेश गुप्ता से मांग की है कि इस चिकित्सक की लापरवाही की जांच की जाए व दोषी पाए जाने पर उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए।
PunjabKesari
6 महीने पहले हुई थी महिला की शादी
अंबाला की अनीता की शादी यहां गण की सेर गांव में इसी वर्ष फरवरी महीने में जयवंत राणा से हुई थी। महिला अपने मायके से मंगलवार को ही यहां आई और उसने बुखार, खांसी व कुछ घबराहट होने की शिकायत की। इस पर पति उसे क्षेत्रीय अस्पताल में चैकअप करवाने के लिए ले गया। उसने बताया कि एमरजैंसी में मौजूद चमड़ी रोग विशेषज्ञ को उन्होंने बीमारी के बारे में बताया और यह भी स्पष्ट किया कि वह 3 माह से गर्भवती भी है। 
PunjabKesari
महिला चिकित्सक ने ठीक से नहीं की जांच
उन्होंने कहा कि वह घबराहट महसूस कर रही है और उसका रक्तचाप चैक करके एडमिट किया जाए। इस पर महिला चिकित्सक ने उसकी ठीक से जांच भी नहीं की और अन्य स्टाफ के साथ बातों में मशगूल रही। रात को करीब सवा 2 बजे पैरामैडीकल स्टाफ ने उसकी पत्नी को इंजैक्शन लगाया और दवा देकर घर जाने की हिदायत दी। दवा लेकर वे अपने क्वार्टर चले गए लेकिन रात को महिला की तबीयत और अधिक बिगड़ गई। सुबह करीब 5 बजे उसे फिर से अस्पताल पहुंचाया गया लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी।

चिकित्सक ने लगाया दर्द का इंजैक्शन
गर्भवती महिला को खांसी, बुखार और घबराहट की शिकायत होने पर एमरजैंसी में मौजूद चिकित्सक द्वारा डायक्लोफेनिक इंजैक्शन (दर्द के लिए), पैरासिटामोल (बुखार के लिए) व सैफिक्सिन (एंटी बायोटिक) दी गई। महिला को दर्द के लिए इंजैक्शन लगाया गया जबकि दर्द की शिकायत ही नहीं की गई थी।
PunjabKesari
पोस्टमार्टम रिपोर्ट से होगा खुलासा 
क्षेत्रीय अस्पताल सोलन के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डा. महेश गुप्ता ने बताया कि महिला की मौत के क्या कारण रहे हैं, इसका खुलासा पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही हो पाएगा। गर्भवती महिला रात के समय एमरजैंसी में आई थी और उसे उपचार दिया गया था। महिला के परिजनों ने उनसे चिकित्सक की लापरवाही की शिकायत की है, जिसकी जांच की जाएगी। फिलहाल चिकित्सकों की टीम शव का पोस्टमार्टम कर रही है।

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!