Watch Video: निगम चुनावों की देरी पर BJP पार्षदों का फूटा गुस्सा, किया बड़ा ऐलान

You Are HereHimachal Pradesh
Saturday, May 13, 2017-1:30 PM

शिमला (विकास शर्मा): नगर निगम शिमला के चुनावों को टालने पर भाजपा के सभी 12 पार्षदों ने अपनी नाराजगी जाहिर की है और 5 जून को निगम के चुनाव न करवाने की स्थिति में सामूहिक इस्तीफा देने का ऐलान कर दिया है। बताया जाता है कि पांच जून को मौजूदा नगर निगम का कार्यकाल पूरा हो रहा है, जिसमें भाजपा के सबसे ज्यादा पार्षद हैं। जिस तरह से चुनावों को टाला गया है।


कांग्रेस सरकार के इशारे पर निर्वाचन आयोग ने चुनाव को टाला
भाजपा ने इसके खिलाफ मोर्चा खोल दिया हैं और सरकार एवं चुनाव आयोग पर हल्ला बोला जा रहा है। बीजेपी पार्षद अनूप वैद्य, शैलेंद्र  चौहान, सरोज ठाकुर, रजनी सिंह, भारती सूद, सत्या कौंडल, लक्ष्मी कश्यप, निर्मला चौहान और कल्याण धीमान ने यहां संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि शिमला निगम के चुनाव के लिए तैयार की गई मतदाता सूचियों में गड़बड़ी को ठीक करने में जिला प्रशासन और राज्य निर्वाचन आयोग पूरी तरह असफल रहा है। उन्होंने कहा कि राज्य की कांग्रेस सरकार के इशारे पर निर्वाचन आयोग ने निगम के चुनाव को टाला है और इसके लिए मतदाता सूचियों की आड़ ली गई।


हार के डर से निगम के चुनावों को टालना लोकतंत्र की हत्या
भाजपा पार्षदों का कहना है कि हार के डर से निगम के चुनावों को टालना लोकतंत्र की हत्या है। जिसमें की वामपंथी मेयर व डिप्टी मेयर भी सरकार से मिले हुए हैं। वह इसका विरोध करती है क्योंकि मतदाता सूचियों में गड़बड़ियों के लिए जिला प्रसाशन एवं राज्य निर्वाचन आयोग जिम्मेवार है जिसका खामियाजा शिमला की जनता क्यों भुगते। पार्षदों का कहना है कि इस अलोकतांत्रिक प्रक्रिया के खिलाफ शिमला के मतदाताओ को जागरूक किया जाएगा।  

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!