CM साहब! यहां दूषित खड्ड से पेयजल आपूर्ति कर रहा IPH विभाग

  • CM साहब! यहां दूषित खड्ड से पेयजल आपूर्ति कर रहा IPH विभाग
You Are HereHimachal Pradesh
Saturday, January 13, 2018-10:09 PM

करसोग (यशपाल): मुख्यमंत्री जी! जनता को बेहतर पेयजल आपूर्ति करने के दावे करसोग में नजर नहीं आ रहे हैं। आई.पी.एच. महकमा दूषित खड्ड से लोगों को पेयजल आपूर्ति कर अपने कर्तव्य का निर्वहन कर रहा है। दूषित पेयजल से लोगों की जिंदगी को मौत के मुहाने पर खड़ा करने की जिम्मेदारी आई.पी.एच. महकमा लेगा या फिर नवनिर्वाचित सरकार? इस सवाल का जवाब ढूंढने की बजाय खड्ड को प्रदूषणमुक्त करना महकमे व सरकार की प्राथमिकता होनी चाहिए। लोगों को जागरूक करने के अलावा महकमे को अपने स्तर पर भी पेयजल योजनाओं को प्रदूषण मुक्त करने के लिए कसरत करने की आवश्यकता है। 

पांगणा से होकर गुजरने वाली खड्ड में बढ़ा प्रदूषण
बात हो रही है उपमंडल मुख्यालय करसोग से तकरीबन 26 किलोमीटर दूर बसे ऐतिहासिक गांव पांगणा से होकर गुजरने वाली खड्ड की। इस खड्ड से होकर गुजरने वाले पानी में कूड़े-कर्कट की इतनी अधिक मात्रा है कि इसे पेयजल में इस्तेमाल नहीं किया जा सकता जबकि आई.पी.एच. महकमा इस खड्ड के अलावा इसमें मिलने वाली अन्य सहायक खड्डों का पानी लिफ्ट पेयजल योजनाओं के जरिए लोगों तक पहुंचा रहा है। दूषित पेयजल के सेवन से पीलिया सहित अन्य जानलेवा बीमारियां लोगों के स्वास्थ्य पर कहर बरपा सकती हैं। खड्ड में बढ़ते प्रदूषण की भनक लगते ही आई.पी.एच. महकमे ने खड्ड के ऊपर बने पुल पर एक चेतावनी बोर्ड लगाकर स्थानीय लोगों को खड्ड में कूड़ा न डालने का कानूनी डर भी दिखाया है लेकिन बावजूद इसके खड्ड में कूड़े-कर्कट का ढेर खत्म होने की बजाय बढ़ता जा रहा है।

मौत के आगोश में समा चुकी हैं ढेरों मछलियां 
खड्ड में बढ़ते प्रदूषण के चलते जलीय जीवों के अस्थित्व पर खतरा मंडराने लगा है। इसी खड्ड में कई मर्तबा प्रदूषण की चपेट में आने से ढेरों मछलियां मौत के आगोश में समा चुकी हैं। मरी हुई मछलियों को स्थानीय लोगों ने जैसे तैसे खड्ड से बाहर निकाल कर इसे साफ भी किया था लेकिन हालत में किसी भी तरह का सुधार न होने के चलते खड्ड में प्रदूषण की मात्रा दिन-प्रतिदिन बढ़ती ही जा रही है, ऐसे में साफ तौर पर कहा जा सकता है कि महकमे की लापरवाही से ग्रामीण दूषित पेयजल पीने को मजबूर हो रहे हैं। पेयजल के लिए इस खड्ड पर निर्भर रहने वाली जनता के अलावा इन लोगों तक पेयजल पहुंचाने का जिम्मा संभालने वाला आई.पी.एच. महकमा पांगणा खड्ड में ठिकाने लगाए जा रहे कूड़े से बेखबर है।

थानेदारी नहीं कर सकते, पकड़े जाने पर होगी कार्यवाई : एक्सियन
पांगणा खड्ड में बढ़ रहे प्रदूषण को लेकर जब आई.पी.एच. मंडल करसोग के एक्सियन अनिल वर्मा से बात की गई तो उन्होने बताया कि खड्ड में कूड़ा फैंकने वालों की थानेदारी हम नहीं कर सकते। यदि कोई भी व्यक्ति खड्ड में कूड़ा-कर्कट फैंकते पकड़ा जाता है तो उसके विरूद्ध कानूनी कार्रवाई करने का प्रावधान है। पेयजल स्त्रोतों में कूड़ा-कर्कट ठिकाने लगाने वालों पर पंचायत अपने स्तर पर कार्यवाही कर सकती है। 


अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन