मकर संक्रांति पर CM जयराम यहां लगाएंगे आस्था की डुबकी, जानने के लिए पढ़ें खबर

  • मकर संक्रांति पर CM जयराम यहां लगाएंगे आस्था की डुबकी, जानने के लिए पढ़ें खबर
You Are HereHimachal Pradesh
Saturday, January 13, 2018-8:16 PM

करसोग (यशपाल): जन्मदग्रि ऋषि की तपोस्थली के तौर पर विख्यात करसोग घाटी के तत्तापानी में मकर संक्रांति के पावन अवसर पर गर्म पानी के कृत्रिम चश्मों में आस्था की डुबकी लगाई जाएगी। प्रदेश के कोने-कोने से तत्तापानी पहुंचने वाले हजारों लोग कृत्रिम पानी के चश्मों में आस्था की डुबकी लगाकर पुण्य कमाएंगे। वर्ष 2015 में कौल डैम बनने से तत्तापानी में सतलुज नदी झील में तबदील हो गई थी जिसके चलते प्राकृतिक गर्म पानी के चश्मे इसी झील में दफन हो गए। चश्मों के जलमग्र होने के चलते वर्ष 2016 में तत्तापानी में लोहड़ी व मकर संक्रांति पर लगने वाले मेले पर पानी फिर गया। 

लोगों की मांग पर सरकार ने ड्रील करके निकाला गर्म पानी
स्थानीय लोगों ने तत्कालीन सरकार के समक्ष अपनी संस्कृति के संरक्षण व संवद्र्धन के लिए गर्म पानी को ड्रील करके निकालने की मांग जोरशोर से रखी थी, ऐसे में जनता की पूरजोर मांग पर सरकार ने सतलुज किनारे मशीनों से ड्रील करवा कर गर्म पानी का इंतजाम कर स्नानागार बनवा दिए। जमीन के नीचे से निकले गर्म पानी को कृत्रिम चश्मों में तबदील कर दिया गया जिसके चलते तत्तापानी में मकर संक्रांति पर पवित्र स्नान का आयोजन शुरू हो पाया। 

तुलादान का भी है विशेष महत्व
माघ मास के दौरान मकर संक्रांति के अवसर पर जहां पवित्र स्नान किया जाएगा, वहीं पूरे एक माह तक तत्तापानी में पवित्र स्नान का सिलसिला जारी रहेगा। पवित्र स्नान के साथ-साथ पूजा-अर्चना करने के अलावा इस स्थान पर तुलादान का भी विशेष महत्व है। तत्तापानी में राजनेताओं सहित फिल्मी हस्तियां तक तुलादान करवा कर पवित्र स्नान कर पुण्य कमा चुकी हैं। यहां गर्म पानी के चश्मों में स्नान करने से जहां चर्म रोग को दूर करने का दावा किया जाता है, वहीं आस्था के प्रतीक पवित्र स्नान से पूर्व तुलादान के जरिए ग्रह नक्षत्रों की शांति भी करवाई जाती है। 

मुख्यमंत्री सहित मंडी के सांसद भी लगाएंगे डुबकी
मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर सहित मंडी के सांसद रामस्वरूप शर्मा भी मकर संक्रांति के अवसर पर आज तत्तापानी में आस्था की डुबकी लगाएंगे। उनके साथ करसोग हलके के विधायक हीरा लाल भी गर्म पानी के कृत्रिम चश्मों में स्नान करेंगे। मुख्यमंत्री के तय कार्यक्रम के अनुसार उनका काफिला सुबह साढ़े 8 बजे शिमला से चलेगा तथा तकरीबन साढ़े 9 बजे वह तत्तापानी पहुंचेंगे। मुख्यमंत्री यहां पहुंचने पर नरसिंह मंदिर में नि:शुल्क चिकित्सा शिविर का उद्घाटन करने के बाद मंदिर के समीप बनी शनि देव की प्रतिमा का अनावरण भी करेंगे। इसके पश्चात मुख्यमंत्री एक जनसभा को संबोधित करेंगे तथा मुख्यमत्री दोपहर डेढ़ बजे के करीब वापस शिमला पहुंचेंगे।

5 दर्जन पुलिस के जवान संभालेंगे सुरक्षा का जिम्मा
तत्तापानी में मकर सक्रांति के अवसर पर लगने वाले मेले व पवित्र स्नान के आयोजन पर पुलिस के तकरीबन 5 दर्जन जवान सुरक्षा का जिम्मा संभालेंगे। जानकारी देते हुए करसोग के डी.एस.पी. रामकरण ने बताया कि मेले में किसी भी तरह की अप्रिय घटना न हो इसके लिए पुलिस के जवान पूरी तरह से मुस्तैद रहेंगे। असमाजिक तत्वों व मेले में हुडदंग मचाने वालों से पुलिस सख्ती से निपटेगी तथा ट्रैफिक व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए पुलिस हर मोर्चे पर अलर्ट रहेगी।

होटलों में परोसी जाएगी खिचड़ी
मकर सक्रांति के अवसर पर जहां तत्तापानी के सभी होटलों में खिचड़ी परोसी जाएगी वहीं मकर सक्रांति पर लगने वाले मेले को लेकर स्थानीय व्यापारी खासे उत्साहित हैं। तत्तापानी में अस्थायी तौर पर तुलादान करवाने के लिए व्यवस्था की गई है तथा प्रदेश के कोने कोने से मेले में दुकानें लगाने के लिए व्यापारी पहुंच रहे हैं। 


अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन