चंपा ठाकुर को इस वजह से धोना पड़ सकता है टिकट से हाथ

  • चंपा ठाकुर को इस वजह से धोना पड़ सकता है टिकट से हाथ
You Are HereHimachal Pradesh
Saturday, October 21, 2017-11:31 AM

मंडी (नीरज):अनिल शर्मा के भाजपा में जाने के बाद कांग्रेस पार्टी को सदर से नया प्रत्याशी तय करने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि सदर से कौल सिंह ठाकुर की बेटी चंपा ठाकुर का नाम लगभग तय माना जा रहा था लेकिन अभी आ रही जानकारी के अनुसार चंपा ठाकुर को कांग्रेस हाईकमान टिकट नहीं देना चाहती। उनके स्थान पर अब कांग्रेस जिलाध्यक्ष दीपक शर्मा के नाम पर सहमति बनती हुई नजर आ रही है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार दीपक शर्मा के नाम पर कांग्रेस हाईकमान की 80 प्रतिशत सहमति बन चुकी है और आज शाम तक जारी होने वाली सूची में सदर से दीपक शर्मा का नाम शामिल हो सकता है।

पार्टी हाईकमान टिकट देने से कर रही  साफ इनकार 
दीपक शर्मा वर्तमान में जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष हैं और पूर्व में युवा कांग्रेस के जिलाध्यक्ष रह चुके हैं। युवा नेता होने के कारण पार्टी इनके नाम पर गंभीरता से विचार कर रही है। वहीं चंपा ठाकुर के टिकट कटने का मुख्य कारण परिवारवाद माना जा रहा है। बताया जा रहा है कि पार्टी हाईकमान एक ही परिवार के दो सदस्यों को टिकट देने से साफ इनकार कर रही है और इसी के कारण चंपा ठाकुर को टिकट से हाथ धोना पड़ सकता है। लेकिन ऐसी चर्चाएं भी हैं कि यदि चंपा ठाकुर को टिकट नहीं दिया गया तो वह निर्दलीय चुनावी मैदान में उतर सकती हैं और इसका घाटा कांग्रेस प्रत्याशी को ही झेलना पड़ेगा। सदर से प्रत्याशी तय न होने के कारण कांग्रेस पार्टी को ही नुकसान झेलना पड़ रहा है क्योंकि दूसरी तरफ भाजपा के अनिल शर्मा ने अपना प्रचार-प्रसार शुरू कर दिया है जबकि कांग्रेस इसमें पिछड़ रही है।
 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!