Watch Video : हिमाचल सहित 9 राज्यों में पैदा हो सकता है बिजली का संकट, कारण जानने के लिए पढ़ें खबर

You Are HereHimachal Pradesh
Friday, December 8, 2017-7:59 PM

रामपुर बुशहर: ऊंची पहाड़ियों में बर्फ गिरने से किन्नौर व रामपुर के आसपास की झीलें भी जमना शुरू हो गई हैं। तापमान के कम होने से नदी, नालों व सतलुज नदी का जलस्तर भी काफी कम हो गया है। इससे सतलुज नदी पर बनी जलविद्युत परियोजना में भी बिजली का उत्पादन गिर गया है। 1100 मैगावाट करच्छम-वांगतू में जलविद्युत परियोजना व एशिया की सबसे बड़ी भूमिगत नाथपा झाखड़ी पावर स्टेशन व रामपुर जलविद्युत परियोजना में भी बिजली का उत्पादन काफी नीचे गिर गया है। इससे उत्तर भारत में भी विद्युत संकट गहरा गया है। नाथपा झाखड़ी जलविद्युत परियोजना से देश के 9 राज्यों को बिजली की आपूर्ति की जाती है। इन राज्यों में पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, राजस्थान, दिल्ली, जम्मू-कश्मीर व हिमाचल सहित अन्य राज्य शामिल हैं।

नाथपा झाखड़ी में 25 प्रतिशत बिजली का उत्पादन 
इन दिनों नाथपा झाखड़ी पावर स्टेशन में करीब 75 प्रतिशत बिजली का उत्पादन गिर गया है। मात्र 25 प्रतिशत ही बिजली का उत्पादन हो रहा है। जलस्तर में गिरावट आने से मात्र 8 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन हो रहा है जोकि बीते वर्ष से भी काफी कम है जबकि पीक सीजन में इस परियोजना में 36 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन होता है। करच्छम-वांगतू जलविद्युत परियोजना में करीब 3.8 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन हो रहा है। इस परियोजना के माध्यम से नाथपा झाखड़ी पावर स्टेशन को 10 करोड़ रुपए की आय होती है, ऐसे में कम बिजली के उत्पादन होने से परियोजना की आय भी कम होती है। परियोजना में प्रतिदिन की आय करीब डेढ़ करोड़ के आसपास हो रही है। 

सतलुज परियोजना में 8 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन
सर्दियों के मौसम आते ही प्रतिवर्ष इन क्षेत्रों में मौजूद जलविद्युत परियोजना में बिजली का उत्पादन काफी कम होता है। हालांकि परियोजना के महाप्रबंधक संजीव सूद ने बताया कि सतलुज नदी में पानी की मात्रा कम होने से बिजली के उत्पादन में भी गिरावट आने लगी है। उन्होंने कहा कि परियोजना में बीते वर्ष की अपेक्षा पानी की मात्रा ज्यादा है। इन दिनों परियोजना में 8 मिलियन यूनिट बिजली का उत्पादन हो रहा है। परियोजना के महाप्रबंधक ने बताया कि 5 जनवरी से परियोजना में मुरम्मत कार्य शुरू किया जाएगा। इस दौरान परियोजना में बिजली का उत्पादन नहीं किया जाएगा। 

यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!