8 माह से लटका स्कूल कमरों का निर्माण

  • 8 माह से लटका स्कूल कमरों का निर्माण
You Are HereBilaspur
Friday, January 12, 2018-5:21 PM

बरठीं : राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला घंडीर में अतिरिक्त कमरों का निर्माण कार्य पिछले 8 महीनों से अधर में लटका होने पर लोक निर्माण विभाग की कार्यप्रणाली पर सवालिया प्रश्न उठना स्वाभाविक ही है। प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्तमान समय में इस स्कूल में 17 कमरे हैं, जिनमें से आधे कमरे प्रधानाचार्य कार्यालय, स्टाफ  रूम, लाइब्रेरी, क्लर्क  रूम, मिड-डे मील रसोई घर, मिड-डे मील स्टोर व आई.टी. लैब आदि के लिए प्रयोग किए जा रहे हैं और इस स्कूल में आर्ट्स, कॉमर्स, इंंगलिश मीडियम, वोकेशनल शिक्षा, कम्प्यूटर शिक्षा व विज्ञान संकाय की कक्षाएं भी चल रही हैं। अध्यापकों को कमरों के अभाव के कारण मजबूरन कक्षाएं बरामदे व खुले आसमान के नीचे खेल मैदान में पढ़ानी पड़ रही हैं।

स्कूल में कमरों की कमी
अभिभावकों करतार सिंह, राजपाल, कुसुम, सुमन, राज, शिव कुमार, सुरेश, विजय कुमार, गुरदयाल, अनिरुद्ध, सुभाष चंद,  संजय ने बताया कि लगभग एक साल पहले प्रदेश सरकार ने 53 लाख रुपए की राशि अतिरिक्त 4 कमरों के निर्माण कार्य के लिए स्वीकृत की थी। लोक निर्माण विभाग ने किसी ठेकेदार के माध्यम से इन कमरों का निर्माण कार्य शुरू किया था, जो मात्र कमरों की नींव तक ही सिमट कर रह गया है। उन्होंने बताया कि भवन निर्माण की सामग्री पत्थर, बजरी व रेत के साथ-साथ मिक्सचर मशीन भी मैदान में पड़ी हुई है। उन्होंने बताया कि स्कूल में कमरों की कमी के कारण लैबों का सामान भी एक कमरे में रखा हुआ है, जिसका प्रयोग भी बच्चे नहीं कर पा रहे हैं। एस.एम.सी. प्रधान जोगिंद्र सिंह का कहना है कि स्कूल में कमरों की कमी के कारण बच्चों की पढ़ाई बाधित हो रही है।

ठेकेदार को कारण बताओ नोटिस जारी
स्कूल प्रबंधन समिति जल्द ही प्रस्ताव डालकर शिक्षा विभाग व लोक निर्माण विभाग को भेजेगी। स्कूल प्रधानाचार्य दया राम भोगल का कहना है कि विभाग जल्द निर्माण कार्य शुरू करने के आश्वासन देने के सिवाय आज दिन तक काम शुरू नहीं कर पाया है।  इस बारे लोक निर्माण विभाग के अधिशासी अभियंता आर.के. वर्मा का कहना है कि ठेकेदार को कारण बताओ नोटिस जारी कर दिया है कि काम क्यों रुका हुआ है और जल्द ही काम शुरू करवा दिया जाएगा।


अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन